नई दिल्ली: DRDO new misile launch भारत ने मंगलवार को ओडिशा के तट से दूर ‘वर्टिकली लॉन्च शॉर्ट रेंज सरफेस टू एयर मिसाइल’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO)ने बताया कि एयर डिफेंस सिस्टम लगभग 15 किमी की दूरी पर टारगेट को ख़त्म कर सकता है. DRDO ने इसे खास नौसैनिक युद्धपोतों के लिए विकसित किया है.

किसी भी दिशा से आ रहे दुश्मन को नेस्तनाबूद करने में सक्षम

इस मिसाइल के सैन्य तकनीक में जुड़ने से ना केवल नौसेना को फायदा मिलेगा बल्कि वायु सेना को भी सहायता मिलेगी। बताया जा रहा है कि ये 360 डिग्री के टारगेट से किसी भी दिशा से आ रहे ड्रोन, मिसाइल या फाइटर जेट को मार गिरा सकती है. इससे पहले DRDO ने रडार वार्निंग रिसीवर (RWR) और मिसाइल अप्रोच वार्निंग सिस्टम (MAWS) को भारतीय वायुसेना को दिया था. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन के अधिकारीयों ने बताया कि UVMAWS एक पैसिव मिसाइल है, जिसका काम दुशमन की मिसाइल का पता लगाना और पायलट को इसके बारे में सचेत करना है.

यह भी पढ़ें:

Uttar Pradesh: आगरा में बीजेपी के दो बड़े नेताओं में भिड़ंत, जमकर हुआ पथराव

Euthanasia Device Got approved मौत की मशीन को मिली मंजूरी, 1 मिनट में निकलेंगे प्राण

 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर