नई दिल्ली. 20 राज्यों में किए गए एक सर्वेक्षण के अनुसार, देश में रिश्वतखोरी की घटनाओं में पिछले साल से 10 प्रतिशत की कमी आई है. यह बताया गया है कि दिल्ली, हरियाणा, गुजरात, पश्चिम बंगाल, केरल, गोवा और ओडिशा में लोगों ने भ्रष्टाचार के कम मामलों की सूचना दी गई है, जबकि राजस्थान, बिहार, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, तमिलनाडु, झारखंड और पंजाब में भ्रष्टाचार की घटनाएं अधिक हुई हैं. 248 जिलों में लोगों से 1,90,000 प्रतिक्रियाएं प्राप्त करने वाले इंडिया करप्शन सर्वे 2019 ने यह भी कहा कि पिछले 12 महीनों में 51 प्रतिशत भारतीयों ने रिश्वत दी. ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल इंडिया, टीआईआई और लोकर सर्किल्स (LocalCircles) ने ये सर्वेक्षण किया है. संगठन द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, टीआईआई द्वारा जारी भ्रष्टाचार धारणा सूचकांक 2018 में भारत की रैंकिंग में पिछले साल की तुलना में तीन स्थानों में सुधार हुआ है और अब, देश 180 देशों के बीच 78 वें स्थान पर है.

सर्वेक्षण के अनुसार, रिश्वत देने के लिए नकद देना अभी भी प्राथमिक तरीका है. जवाब देने वालों में से पैंतीस प्रतिशत ने कहा कि उन्होंने अपना काम पूरा करने के लिए पिछले 12 महीनों में रिश्वत के रूप में नकद दिया, यह कहा और कहा कि 16 प्रतिशत ने कहा कि वे हमेशा रिश्वत का भुगतान किए बिना अपना काम पाने में कामयाब रहे. सर्वेक्षण से पता चलता है कि सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार वाले तीन विभाग संपत्ति पंजीकरण और भूमि मुद्दे, पुलिस और नगर निगम हैं. हालांकि सीसीटीवी कैमरे थोड़े फायदेमंद रहे हैं, फिर भी सरकारी कार्यालयों में बड़े कंप्यूटराइजेशन के बावजूद रिश्वतखोरी जारी है और एजेंटों का जोर जारी है. रिश्वत की घटनाओं की सबसे अधिक संख्या संपत्ति पंजीकरण और भूमि के मुद्दों में शामिल अधिकारियों में थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तरदाताओं के 26 फीसदी मतों के आधार पर यह समर्थन हासिल किया गया.

केवल 12 प्रतिशत नागरिकों ने कहा कि संपत्ति पंजीकरण और भूमि मुद्दों में रिश्वत पिछले 12 महीनों में कम हो गई है. 49 प्रतिशत ने कहा कि रिश्वतखोरी पहले की तरह जारी है और आठ प्रतिशत ने कहा कि इसमें वृद्धि हुई है. नौ फीसदी ने कहा कि उन्हें रिश्वत देने की जरूरत नहीं है. सर्वेक्षण में कहा गया है कि 17 प्रतिशत नागरिकों ने कहा कि टैक्स से संबंधित मामलों में रिश्वत कम हुई है. पिछले छह महीनों में सरकार ने भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे 25 से अधिक वरिष्ठ कर अधिकारियों को सेवानिवृत्त कर दिया है. जब नगर पालिका या स्थानीय निकायों से संबंधित काम के लिए रिश्वत की मांग की गई, तो 10 प्रतिशत नागरिकों ने कहा कि इसमें कमी आई है जबकि 44 प्रतिशत ने कहा कि यह पहले की तरह जारी है. 11 प्रतिशत ने कहा कि पुलिस के लिए रिश्वतखोरी कम हुई है जबकि एक बराबर है.

Also read, ये भी पढ़ें: Delhi Weather Forecast: आज तेज हवा के साथ दिल्ली में दस्तक देगी बारिश, 30 नवंबर से पड़ने वाली है कड़ाके की ठंड

Shivsena Slams BJP in Saamna: मुखपत्र सामना में शिवसेना ने बीजेपी और देवेंद्र फडणवीस पर किया हमला, कहा- बालासाहेब ठाकरे को दिया वचन हुआ पूरा

Maharashtra Govt Formation Shiv Sena NCP Congress Live Updates: महाराष्ट्र में नई विधानसभा का विशेष सत्र शुरू, सभी विधायकों को शपथ दिलाएंगे प्रोटेम स्पीकर कालीदास कोलंबर, 28 नवंबर को उद्धव ठाकरे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

7th Pay Commission Latest News: सातवें वेतन आयोग के तहत टीए में वृद्धि और दिल्ली-कोलकाता के शिक्षकों के वेतन से जुड़ी जानकारी पाएं यहां

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App