नई दिल्ली. भारत में चीनी सेना की घुसपैठ का एक और मामला सामने आया है। घटना बीती छह जुलाई की है। चीनी सेना इस दिन तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा के जन्मदिन कार्यक्रमों का विरोध करने के लिए लद्दाख के डेमचोक में घुस आई।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीनी सैनिक सिंधु नदी पार कर भारतीय क्षेत्र में आए थे। उनके हाथों में बैनर और चीन के झंडे थे। वे पांच गाड़ियों में आए थे जिन पर आम चीनी लोगों के अलावा चीनी सैनिक भी थे। उन्होंने गांव के कम्युनिटी सेंटर के पास अपना विरोध प्रदर्शन किया जहां दलाई लामा का जन्मदिन मनाया जा रहा था। कहा जा रहा है कि इस दौरान चीनी सैनिक भारतीय सीमा के अंदर करीब 30 मिनट तक रहे।

भारतीय सेना ने इस घटना पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है। घुसपैठ की इस घटना को गंभीर नहीं माना जा रहा है लेकिन इसे चीन की छोटी-छोटी हरकतों के ज़रिए उकसाने की कोशिश के तौर पर ज़रूर देखा जा रहा है।

मालूम हो कि इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दलाई लामा को उनके 86वें जन्मदिन पर बधाई दी थी. यह पहली बार था, जब प्रधानमंत्री मोदी ने आधिकारिक तौर पर कहा कि उन्होंने दलाई लामा के साथ बात की। एक ट्वीट में, प्रधानमंत्री ने कहा, “तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा को उनके 86वें जन्मदिन पर बधाई देने के लिए फोन पर बात की। हम उनके लंबे और स्वस्थ जीवन की कामना करते हैं।”

Assam Cattle bill: असम में पेश किया गया कैटल बिल, हिंदू, सिख, जैन समुदायों वाले इलाकों में और मंदिर के 5 किमी दायरे में नहीं बेच सकते बीफ, विपक्ष का विरोध

Ayodhya Green Vedic City: अयोध्या बनेगा देश का पहला ग्रीन वैदिक सिटी, श्रीराम एयरपोर्ट से लेकर क्रूज तक जानें और होगा श्री राम की नगरी में खास?