नई दिल्ली: अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष यानी आईएमएफ ने भारतीय अर्थव्यवस्था में इस वर्ष के दौरान 10.3 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आने का अनुमान लगाया है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने मंगलवार को कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में 4.4 प्रतिशत की गिरावट और 2021 में 5.2 प्रतिशत की जोरदार वृद्धि के साथ आगे बढ़ने की संभावना है. हालांक इस दौरान आईएमएफ ने कहा कि 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में संभवत: 8.8 प्रतिशत की जोरदार बढ़त दर्ज की जाएगी और वह चीन को पीछे छोड़ते हुए तेजी से बढ़ने वाली उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर से हासिल कर लेगी. आइएमएफ ने चीन के लिए 2021 में 8.2 प्रतिशत वृद्धि हासिल करने का अनुमान लगाया है.

विश्व बैंक की सालाना वार्षिक बैठक से पहले जारी की गई इस रिपोर्ट में कहा गया कि 2020 में वैश्विक अर्थव्यवस्था में 4.4 प्रतिशत की गिरावट आयेगी और 2021 में यह 5.2 प्रतिशत की जोरदार वृद्धि हासिल करेगी. रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में अमेरिका की अर्थव्यवस्था में 5.8 प्रतिशत गिरावट आने का अनुमान है जबकि अगले वर्ष इसमें 3.9 प्रतिशत की वृद्धि होगी. आइएमएफ की रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि साल 2020 के दौरान दुनिया की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में केवल चीन ही एकमात्र देश होगा जिसमें 1.9 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की जायेगी.

आईएमएफ ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि सकल घरेलू उत्पाद में दूसरी तिमाही यानी अप्रैल से जून तक भारत के वित्त वर्ष के मुताबिक पहली तिमाही के दौरान अनुमान से कहीं बड़ी गिरावट रही है जिसके परिणामस्वरूप अर्थव्यवसथा के 2020 में 10.3 प्रतिशत घटने का अनुमान है जबकि 2021 में इसमें 8.8 प्रतिशत वृद्धि के साथ बड़ा उछाल आयेगा. गौरतलब है कि इस वक्त जीडीपी माइनस 23 से भी ऊपर चल रही है जो निश्चित ही बड़े आर्थिक झटके का संकेत है.

Monsoon Session: कृषि बिल पर संजय राउत का PM मोदी से सवाल- क्या अफवाह में मंत्री ने इस्तीफा दे दिया

Major Organisational Reshuffling In Congress: कांग्रेस संगठन में बड़ा फेरबदल, गुलाम नबी आजाद से महासचिव का पद छिना, सुरजेवाला का पार्टी में कद बढ़ा