नई दिल्ली: देश की सबसे बड़ी सहकारी संस्था इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर को-ऑपरेटिव लिमिटेड (इफको) ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर किसानों को बड़ी सौगात देते हुए DAP और NPK उर्वरक के दाम में प्रति बोरी 50 रुपये की कटौती का एलान किया है. इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. यूएस अवस्थी ने दाम घटाने का एलान किया. कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि ये किसानों को इफको की तरफ से तोहफा है. घटी हुई कीमतें आज यानी 15 अगस्त के बाद से देशभर में लागू होंगी. चेन्नई में इफको की स्टेट यूनिट में स्वतंत्रता दिवस के दिन ध्वजारोहण करने पहुंचे इफको के प्रबंध निदेशक डॉ यू एस अवस्थी ने कहा कि उर्वरक की कीमतें कम होने से एग्रीकल्चर कॉस्ट कम होगा जिसका सीधा लाभ किसानों को मिलेगा. उन्होंने ये भी कहा कि उर्वरक की कीमतें कम होने से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के सपने को पूरा करने में भी मदद मिलेगी.

डॉ. अवस्थी ने ये भी कहा कि इफको किसानों के विकास और उनके फायदे के लिए हर दिशा में काम कर रहा है. साथ ही साथ उन्होंने ये भी कहा कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने की दिशा में भी इफको हर संभव कदम उठा रहा है. गौरतलब है कि डॉ. अवस्थी हर साल देश के किसी ना किसी इफको यूनिट में झंडा फहराकर सहकारी कर्मचारियों के साथ स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं. इफको 35000 कॉपरेटिव सोसाइटी के जरिए देश के पांच करोड़ से ज्यादा किसानों से सीधा जुड़ा हुआ है.  

क्या होता है डीएपी?
डीएपी यानी डाइअमोनियम फॉस्फेट है जिसमें आधे से ज्यादा फास्फोरस होता है जिसका एक हिस्सा पानी में मिलाया जाता है जबकि दूसरा हिस्सा मिट्टी में मिलाया जाता है. डीपीके का काम होता है जमीन में उर्रवरा शक्ति को बढ़ाना जिससे मिट्टी और ज्यादा उपजाऊ बने और फसल अच्छी से अच्छी हो. डीएपी पहले 1400 रुपये में मिलता था जिसे घटाकर अब 1300 रुपये कर दिया गया था और अब उसके दाम में 50 रुपये और कटौती की गई है.

क्या होता है एनएपी?
दूसरा उर्वरक होता है एनपीके जिसे नाइट्रोजन फॉस्फोरस और पोटैशिम मिला होता है. इसके इस्तेमाल से फसल मजबूत होती है. खास तौर पर फलों की खेती में इसका काम ज्यादा होता है ताकि फल टूट टूटकर ना गिरे. वहीं एनपीके जिसका दाम पहले 1365 रुपये था उसे घटाकर अब 1250 रुपये कर दिया गया है. वहीं एनपीके-2 का दाम 1260 से घटाकर 1210 रुपये कर दिया गया है और एनपी का दाम जो पहले 1000 रुपये था उसे घटाकर 950 रुपये कर दिया गया है.

अच्छी फसल के लिए डीएपी और एनएपी दोनों ही बहुत जरूरी हैं. फसल की बुआई के समय दोनों का इस्तेमाल किया जाता है जिससे मिट्टी की गुणवत्ता भी बढ़े और फसल की जड़ें ज्यादा से ज्यादा फैल सके जिससे भरपूर पैदावार हो सके.

IFFCO AGM BS Nakai Chairman Dileep Sanghani Vice Chairman: इफको के एजीएम में बलविंदर सिंह नकई चेयरमैन और दिलीप संघानी वाइस चेयरमैन चुने गए

IFFCO Agreement with Sirius Minerals: किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में इफको ने उठाया बड़ा कदम, फर्टिलाइजर में ये बदलाव कर मिट्टी की उपजाऊ क्षमता बढ़ाने के लिए लंदन की सिरियस मिनरल्स के साथ किया अहम समझौता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App