शिमला. हिमाचल प्रदेश की 68 सीटों के लिए वोटिंग सुबह आठ बजे से जारी है. दोपहर 12 बजे तक 28.60 फीसदी मतदान रिकॉर्ड किया गया है.  वहीं बीजेपी और कांग्रेस के सीएम उम्मीदवारों ने अपनी अपनी सरकार बनने का दावा किया है. चुनाव के लिए पुलिस और होमगार्ड के 17850 जवानों को ड्यूटी पर लगाया गया है. इसके अलावा केंद्रीय और अर्धसैनिक बलों की 65 कंपनियों को भी तैनात किया गया है. इस बार चुनाव में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिहं के अलावा विधानसभा के उपाध्यक्ष जगत सिंह नेगी, पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, 10 मंत्री, आठ संसदीय सचिव और 62 उम्मीदवारों समेत 337 उम्मीदवारों की प्रतिष्ठा दाव पर लगी हुई है.

हिमाचल में दो चिर प्रतिद्वंदी पार्टियां कांग्रेस और बीजेपी मुकाबले में हैं. वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में बीजेपी चुनावी मैदान में है. इसके अलावा 42 सीटों पर बीएसपी और 14 सीटों पर माकपा भी चुनाव लड़ रही है. इससे पहले मंगलवार शाम बीजेपी और कांग्रेस का चुनाव प्रचार खत्म हुआ. दोनों ही पार्टियों ने हिमाचल चुनाव में जी जान लड़ा दी है. कांग्रेस के स्टार प्रचारकों ने हिमाचल में 450 से ज्यादा रैलियां की वहीं बीजेपी की तरफ से अमित शाह ने 6 और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 7 बार रैलियों को संबोधित किया.

कांग्रेस उपाध्यक्ष भी हिमाचल चुनावों में खासे सक्रीय नजर आए. उन्होंने भी तीन रैलियों को संबोधित किया और तीनों ही रैलियों में जीएसटी और नोटबंदी को मुद्दा बनाकर बीजेपी को घेरा. सीटों के समीकरण की बात करें तो फिलहाल हिमाचल प्रदेश की 68 विधानसभा सीटों में अभी तक कांग्रेस के पास 35 और बीजेपी के पास 28 विधायक हैं. इसके अलावा 4 विधायक निर्दलीय हैं और एक सीट खाली है.

हिमाचल प्रदेश चुनाव 2017: प्रेम कुमार धूमल और सीएम वीरभद्र सिंह ने किया अपनी-अपनी सरकार बनने का दावा