नई दिल्ली: उत्तर भारत में गर्मी की शुरुआत हुई है लेकिन उसने अभी से लोगों का जीना मुहाल कर रखा है. दिल्ली एनसीआर समेत पूर्वोतत्तर के कई राज्यों में गर्मी का प्रकोप शुरू हो गया है. गुरुवार को दिल्ली में तापमान 46.8 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. यह तापमान मई के महीने में 2013 के बाद अब तक का सबसे ज्यादा तापमान था. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में अधिकतम तापमान 48.6 डिग्री सेल्सियस रहा जो कि पिछले 25 सालों में सबसे ज्यादा है.

दिल्ली एनसीआर में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 44.8 डिग्री सेल्सियस रहा वहीं ह्यूमिडिटी 25-59 फीसद रही. मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली में कई जगहों पर गर्म हवाए चल रही हैं और एक हफ्ते तक इसी तरह गर्म हवाएं चलने के आसार हैं. गुरुवार को दिल्ली में तापमान 46.8 डिग्री तक पहुंच गया, जो कि 2013 के बाद सबसे मई महीने का सबसे गर्म दिन रहा. उत्तर भारत में गरम हवाओं के प्रकोप को देखते हुए मौसम विभाग ने दिल्ली एनसीआर के लिए रेड कलर वॉर्निंग दी है. आपको बता दें कि मौसम विभाग के पास चार कलर कोड वार्निंग (चेतावनी) होती हैं. ये वार्निंग, ग्रीन, येलो, एंबर और रेड कलर की होती हैं. इसमें से ग्रीन समान्य तापमान को दर्शाता है तो वहीं रेड कलर अत्यधिक मौसम की स्थिति को बताता है. शनिवार की बात करें तो तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है, वहीं न्यूनतम तापमान 29 डिग्री सेल्सियस तक हो सकता है.

गर्मी का प्रकोप सिर्फ दिल्ली एनसीआर में ही नहीं है बल्कि यूपी, महाराष्ट मध्य प्रदेश समेत काई राज्यों में लोग गर्मी का मार झेल रहे हैं. स्काईमेट वेदर कंपनी के मुताबिक गुरुवार को ही यूपी के प्रयागराज में पारा 48.6 डिग्री तक पहुंच गया और 25 सालों का रिकार्ड तोड़ दिया. साल 1999 में अधिकतम तापमान 48.4 डिग्री सेल्सियस रहा था. जानकारी के मुताबिक अगले मंगलवार तक दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और पश्चिम यूपी के लोग गर्म हवाओं से परेशान रहेंगे. बड़ी जगहों में जब अधिकतम तापमान दो दिन तक लगातार 45 डिग्री सेल्सियस रहता तो गर्म हवाओं का चलना कहा जाता है.

साफ आसमान और शुष्क उत्तर की ओर चलने वाली हवाओं के कारण दिल्ली और उत्तर भारत के क्षेत्रों के तापमान में इज़ाफा हो सकता है. इसमें से सबसे ज्यादा गर्म हवाएं सोमवार को चलेंगी और मंगलवार तक जारी रहेंगी. मौसम विशेषज्ञों के अनुसार फिलहाल कुछ हफ्तों तक तो इन हवाओं से राहत मिलने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं क्योंकि मॉनसून उत्तर भारत में 15 जून से पहले नहीं आने का अनुमान है. इसके अलावा मॉनसून की शुरुआत भी धीमा रहने वाली है.

 

JCB Memes Viral on Social Media: नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी के बाद सोशल मीडिया पर देश की तीसरी पसंद बनी जेसीबी मशीन की खुदाई

Nai Manzil scheme For Minorities: जानें क्या है केंद्र सरकार की नई मंजिल योजना, बीच में पढ़ाई छोड़ चुके अल्पसंख्यक समुदाय के युवा कैसे ले सकते हैं इसका लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App