गुना मुठभेड़:

भोपाल।  काला हिरण का शिकार करने वाले शिकारियों से मुठभेड़ में मारे गए पुलिसकर्मियों को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बड़ा ऐलान किया है. इस पूरी घटना पर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक करने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मृतक पुलिसवालों को शहीद का दर्जा दिया जाएगा और उनके परिजनों को 1 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

पुलिकर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि मुठभेड़ जान गंवाने वाले तीनों पुलिसकर्मियों (राजकुमार जाटव, नीरज भार्गव और संतराम) का बलिदान बेकार नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि हमारे पुलिस कर्मियों ने शिकारियों का सामना करते हुए अपना बलिदान दिया है. अपराधियों की पहचान लगभग हो चुकी है. घटनास्थल पर पुलिस बल भेज दिया गया है और अपराधियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा।

आईजी को हटाया

काले हिरण के शिकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच हुई मुठभेड़ के बाद पर देरी से पहुंचने पर ग्वालियर के आईजी को सरकार ने तत्काल हटाने का निर्णय लिया है।

शहीद का दर्जा और 1 करोड़ का ऐलान

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मृतक पुलिसकर्मियों को शहीद का दर्जा दिया जाएगा और उनके परिवारों को 1 करोड़ रुपये दिए जाएंगे. इसके साथ ही प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी. शहीद पुलिसकर्मियों का अंतिम संस्कार पूरे सम्मान के साथ किया जाएगा।

SI समेत 3 पुलिसकर्मियों की मौत

बता दें कि शिकारियों के साथ हुई मुठभेड़ में एक एसआई समेत तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई है. जिसमें उपनिरीक्षक राजकुमार जाटव, आरक्षक संतराम और आरक्षक नीरज भार्गव का नाम शामिल है.

शिकारियों को जल्द पकड़ेंगे- नरोत्तम मिश्रा

गौरतलब है कि गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुना मे हुई इस घटना को लेकर मीडिया से बात करते हुए कहा कि ये बहुत दुखद है. शिकारियों ने अपने आप को चारों तरफ से घिरा देखकर फायरिंग शुरू कर दी. जिसमें हमारे एक SI, एक हेड कांस्टेबल और एक कांस्टेबल शहीद हो गए. गृहमंत्री ने आगे बताया कि लगातार बदमाशों की घेराबंदी की जा रही है और जल्द उन्हें पकड़ लिया जाएगा।

यह भी पढ़े:

एलपीजी: आम लोगों का फिर बिगड़ा बजट, घरेलू रसोई गैस सिलेंडर 50 रूपये हुआ महंगा

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर