फ्रेंच गुयाना. GSAT 31 Launch:  बुधवार की देर रात जब भारत में लोग नींद के आगोश में थे, दूर देश फ्रांस के फ्रेंच गुयाना में भारत अंतरिक्ष में लंबी छलांग लगा रहा था. जी हां, भारत ने संचार उपग्रह जीसैट-31 को सफलतापूर्वक लॉन्च कर बड़ी कामयाबी हासिल कर ली है. बुधवार की देर रात दो बज कर 31 मिनट पर फ्रेंच गुयाना स्थित प्रक्षेपण केंद्र से भारतीय संचार उपग्रह जीसैट 31 को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया गया.

जीसैट 31 को सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में पहुंचाना भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की बड़ी कामयाबी है. 2535 किलोग्राम वजनी यह उपग्रह भारत में संचार व्यवस्था को बेहतर करने में सहायक सिद्ध होगा. इसरो के अनुसार जीसैट-31 का उपयोग वीसैट नेटवर्क, टेलीविजन अपलिंक्स, डिजिटल उपग्रह समाचार जुटाने में किया जाएगा. साथ ही जीसैट-31 डीटीएच टेलीविजन सेवा, सेलुलर बैक हॉल संपर्क जैसे काम को भी आसान बनाएगा.

बताते चले कि जीसैट-31 भारत का 40वां संचार उपग्रह है. इसरो के अनुसार जीसैट-31 भू-स्थैतिक कक्षा में कू-बैंड ट्रांसपोंडर क्षमता को बढ़ाएगा. जीसैट-31 की जीवन अवधि 15 साल है. मिली जानकारी के अनुसार संचार उपग्रह जीसैट-31 को इसरो के परिष्कृत I-2K बेस पर स्थापित किया गया है. यह इसरो के पूर्ववर्ती इनसैट/जीसैट उपग्रह श्रेणी के उपग्रहों का उन्नत रूप है. इससे भारतीय भू-भाग के साथ-साथ  द्वीप तक बेहतर कवरेज की व्यवस्था सुनिश्चित होगी. 

बता दें कि मौजूदा समय में शक्तिशाली देशों के बीच अंतरिक्ष में सर्वाधिक कामयाबी हासिल करने की होड़ लगी है. जिसमें भारत भी काफी मजबूती से शामिल है. इसरो ने मॉस मिशन के जरिए पूरी दुनिया में भारत का सर ऊंचा उठाया था. जिसेक बाद एक साथ 100 से अधिक उपग्रहों को छोड़ कर इसरो ने एक और कामयाबी हासिल की थी. 

देखें जीसैट-31 की लॉन्चिंग का वीडियो- 

 ISRO Launches PSLVC 44: इसरो के PSLVC 44 से अंतरिक्ष में भेजी गई दो सैटेलाइट, कलामसैट और माइक्रोसैट-आर में जानें क्या है खास 

Communication Satellite GSAT11 launch: लॉन्च हुआ भारत का सबसे वजनी सैटेलाइट जीसैट11, देशवासियों को मिलेगा ये फायदा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App