बागपत. उत्तर प्रदेश के कुख्यात माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की सोमवार को बागपत जिला जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई. मुन्ना बजरंगी की आज बागपत कोर्ट में पेशी होनी थी. इस पर पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षित से रंगदारी मांगने का मामला चल रह था. इसलिए रविवार को मुन्ना बजरंगी को झांसी से बागपत लाया गया था. इसी दौरान जेल में उसकी हत्या कर दी गई. सीएम योगी आदित्यनाथ ने उच्चस्तरीय जांच के आदेश दे दिए हैं.

वहीं माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या के मामले में एडीजी जेल ने बागपत जेल के जेलर, डिप्टी जेलर, जेल वॉर्डन और दो सुरक्षाकर्मियों को निलंबित कर दिया है. बागपत जेल में ही बंद गैंगस्टर सुनील राठी के शूटरों पर वारदात को अंजाम देने का शक है. हत्या की जांच के लिए एक जांच टीम बागपत जेल में पहुंच चुकी है. इससे पहले भी झांसी जेल में भी मुन्ना पर हमला हुआ था. बजरंगी की पत्नी पहले ही उसकी हत्या की आशंका जता चुकी थी.

मुन्ना बजरंगी की पत्नी सीमा ने पहले यूपी एसटीएफ और पुलिस पर उनका एनकाउंटर करने की साजिश रचने का आरोप लगाया था. सीमा ने कहा था कि जेल में ही उसके पति के खाने में जहर देने की कोशिश की गई. सीसीटीवी फुटेज में भी इसकी रिकॉर्डिंग है.

मुन्ना बजरंगी की हत्या मामले में एडीजी जेल चंद्रप्रकाश का बयान आया है, उन्होंने कहा कि सुबह 6 बजे जेल में झगड़े के दौरान गोली मारी गई. मुन्ना बजरंगी को सुनील राठी ने गोली मारी है. हत्या के बाद हथियार गटर में फेंक दिया है. साथ ही एडीजी जेल ने स्वीकार किया कि जेल की सुरक्षा में गंभीर चूक हुई है. घटना के बाद
जेलर उदय प्रताप सिंह, डिप्टी जेलर शिवाजी यादव, हेड वार्डन अरजिन्दर सिंह, वार्डन माधव कुमार को सस्पेंड कर दिया गया है. मामले की ज्यूडिशियल इंक्वायरी करवानी की बात कही गई है. साथ ही मुन्ना बजरंगी का पैनल पोस्टमार्टम होगा.

वहीं गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या पर पर बोले कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून और व्यवस्था की स्थिति खराब हो रही है. घर के बाहर की स्थिति खराब है ही है जेल के अंदर भी जो स्थिति है वह साफ दिखाता है अपराधी नीडर हो गए हैं. मुन्ना बजरंगी को साजिश के तहत लाया गया था. बागपत के जेल में जेल के डॉक्टर ने बंदी मुन्ना बजरंगी की को कहीं भी सफर करने से किया था. मना ब्लड प्रेशर सही ना होने की वजह से जेल के चिकित्सकों ने मना किया था. उसके बावजूद मुन्ना बजरंगी को बागपत की जेल में लाया गया

बता दें कि मुन्ना बरजरंगी पर 40 ये ज्यादा हत्याओं, लूट, रंगदारी की घटनाओं को अंजाम देने का केस दर्ज है. मुन्ना बजरंगी यूपी पुलिस और एसटीएफ के लिए सिरदर्द बना हुआ था. मुन्ना बजरंगी लखनऊ, कानपुर और मुंबई में क्राइम करता था. सरकारी ठेकेदारों से रंगदारी और हफ्ता वसूलना का भी आरोप था. मुन्ना बजरंगी का नाम प्रेम प्रकाश सिंह है. मुन्ना बजरंगी का जन्म 1967 में यूपी के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में हुआ था. उसने पांचवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी.

दिल्ली के बुराड़ी में हुई 11 मौतों के बारे में जानना चाहती है अमेरिका और इंग्लैंड की पुलिस

दिल्ली के बुराड़ी में हुई 11 मौतों के बारे में जानना चाहती है अमेरिका और इंग्लैंड की पुलिस

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App