नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैंकिंग के कर्ज की समस्या को लेकर यूपीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस से शासनकाल में नामदारों के फोन पर लोगों के कर्ज दिए गए. जिस पर एक के बाद एक ट्वीट कर पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने उन पर जोरदार निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार को ये बताना चाहिए कि उनके समय में दिए गए कितने कर्ज डूब गए. उन्होंने कहा कि 2014 के बाद कितना लोन दिया गया और उनमें से कितनी राशि डूब गई यानी एनपीए हो गई ये सवाल कई बार संसद में पूछा गया लेकिन मोदी सरकार ने इसका कोई जवाब नहीं दिया. 

आपको बता दें कि शनिवार को पीएम मोदी ने डाक विभाग के भुगतान बैंक के उद्घाटन के दौरान कहा था कि चार-पांच साल पहले बैंकों की अधिकांश पूंजी केवल एक परिवार के करीबी धनी लोगों को दी जाती रही. उन्होंने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा था कि नामदारों द्वारा किए गए फोन कॉल पर कर्ज दिए गए. उन्होंने कहा कि अच्छी तरह जानते हुए भी कर्ज का पैसा वापस नहीं आएगा, बैंकों ने कुछ लोगों को एक परिवार के आदेश पर कर्ज दिया. साथ ही पीएम मोदी ने पिछली सरकार पर एनपीए से जुड़ी जानकरी छिपाने का आरोप लगाया था.

जिस पर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने पीएम पर जोरदार पलटवार किया. उन्होंने ऐसे लोगों को दिए कर्ज की सूची मांगी. साथ ही उन्होंने कहा कि पीएम बताएं ऐसे कितने कर्ज एनडीए शासन में रिन्यू किए गए. बता दें कि पीएम मोदी ने बैंक कर्ज के लेकर कांग्रेस पर जोरदार निशाना साधा था. 

यह भी पढ़ें- PM Modi Launch India Post Payments Bank Highlights: इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक लॉन्च, PM नरेंद्र मोदी बोले- हर गरीब के दरवाजे पहुंचा बैंक

भारतीय डाक विभाग के भुगतान बैंक का उद्घाटन कर बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- विधायक बनने से पहले नहीं था मेरा ऑपरेशनल बैंक अकाउंट

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App