नई दिल्ली. Fixed Deposit or Fixed Maturity Plans: बैंक में ग्राहकों को पैसे केवल सेविंग्स अकाउंट में रखने से लाभ नहीं मिलता. बैंक में रखा पैसा सबसे ज्यादा लाभ एफडी, आरडी, एफएमपी या अन्य सेवाओं के जरिए देता है. हालांकि इन सेवाओं के तहत पैसा जमा करने से पहले जोखिम से ग्रस्त निवेशकों और मध्यम आय वर्ग का एक बड़ा वर्ग पारंपरिक निवेश विकल्प और कम जोखिम वाली योजनाओं को प्राथमिकता देता है. निवेश विकल्प जैसे कि इक्विटी, इक्विटी-ओरिएंटेड म्यूचुअल फंड और अन्य मार्केट-ट्रेडेबल सिक्योरिटीज के लिए नजर बनाकर रखनी होती है और इसमें लोगों की भागीदारी की आवश्यकता होती है. हालंकि अधिकांश वेतनभोगी वर्ग के व्यक्ति और नियमित नौकरी में लगे लोग अपने निवेश को दैनिक आधार पर ट्रैक करने में असमर्थ होते हैं. इसके लिए लोगों के लिए फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान (एफएमपी) और फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) का निवेश विकल्प हैं.

Fixed Deposit or Fixed Maturity Plans Interest, फिक्स्ड डिपॉजिट और फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान ब्याज

इसके साथ निवेशक लंबी अवधि के लिए पैसे की बचत के साथ लाभ उठा सकते हैं. इन दोनों निवेशों को नियमित रूप से निवेशकों के नजर बनाए रखने की जरूरत नहीं होती है. लंबे समय के लिए इंवेस्टमेंट की तलाश करने वाले निवेशक योजना के कार्यकाल के लिए एफएमपी में निवेश करने पर विचार कर सकते हैं. इसके साथ ही, निवेशक वैकल्पिक निवेश विकल्पों में एक समान राशि डाल सकते हैं जो कम ब्याज दर के जोखिम के साथ बेहतर कर के बाद रिटर्न देने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. हालांकि, दूसरी ओर, एक अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक या डाकघर के साथ सावधि जमा (फिक्सड डिपॉजिट) पूरी तरह से जोखिम-मुक्त निवेश है, जिसके साथ निवेशक जमा पर एक निश्चित ब्याज कमा सकते हैं. फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर ग्राहक और बैंक के बीच एफडी खाता खोलने के समय तय की जाती है. फिक्स्ड डिपॉजिट और फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान दोनों के अलग-अलग फायदे हैं.

Fixed Deposit or Fixed Maturity Plans Benefits, फिक्स्ड डिपॉजिट और फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान के फायदे

फिक्सड मैच्योरिटी योजनाओं में रखे गए पैसे को आगे निश्चित ब्याज के लिए निवेश किया जाता है जो योजना की मैच्योरिटी के अनुसार मैच्योर होने के लिए निर्धारित हैं. एसबीआई म्यूचुअल फंड के अनुसार, एफएमपी रिटर्न पैदा करता है जो कि निवेश की तिथि पर मैच्योरिटी की उपज के बराबर होता है. फिक्सड डिपॉजिट और फिक्सड मैच्योरिटी प्लान के कर फायदों में थोड़ा अंतर है.

Also read, ये भी पढ़ें: How to Check EPFO PF Balance: ईपीएफओ ने देना शुरू किया ब्याज, जानें वेबसाइट, मिस कॉल और एसएमएस के जरिए कैसे चेक करें बैलेंस

Fixed Deposit or Fixed Maturity Plans Tax, फिक्स्ड डिपॉजिट और फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान पर टैक्स

फिक्स्ड डिपॉजिट के मामले में, ब्याज आय को निवेशकों की वार्षिक आय में जोड़ा जाता है और लागू आयकर स्लैब के अनुसार कर लगाया जाता है. जबकि फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान पर कर मैच्योरिटी की अवधि पर निर्भर है. तीन साल से अधिक की मैच्योरिटी अवधि वाले एफएमपी को दीर्घकालिक माना जाता है और तीन साल के बाद के लाभ को दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ के रूप में माना जाता है. वर्तमान दिशानिर्देशों के अनुसार, एलटीसीजी पर इंडेक्सेशन के लाभ के साथ 20 प्रतिशत कर लगाया जाता है. बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट के मामले में कोई प्रावधान इंडेक्सेशन लाभ नहीं है.

PNB FD Interest Rates: पंजाब नेशनल बैंक पीएनबी फिक्स्ड डिपॉजिट एफडी की नई ब्याज दरें

SBI Floating Rate Based Loans: एसबीआई देगा ग्राहकों को रेपो रेट कम होने का सीधा फायदा, जानें क्या होंगी नई ब्याज दरें और इसका आपको क्या मिलेगा लाभ

SBI Fixed Deposit Interest Rates: भारतीय स्टेट बैंक एसबीआई फिक्सड डिपॉजिट एफडी पर कितना देता है इंटरेस्ट, जानें ब्याज दरों की पूरी डिटेल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App