न्यूयॉर्क: अमेरिका ने कोरोना की दवा तो विकसित कर ली है लेकिन उसकी कीमत इतनी है कि गरीब उसे खरीद ही नहीं सकता. कोरोना की दवा रेमडेसिवीर की एक शीशी की कीमत 390 डॉलर है और इसका कोर्स पांच दिनों का होता है. 5 दिन के पूरे कोर्स की कुल कीमत 2,340 डॉलर है. भारतीय रूपयों में कीमत का अनुमान लगाएं तो करीब 1,75,500 रुपये. कोरोना संक्रमित मरीजों के ईलाज के लिए 5 दिन के कोर्स में रेमडेसिवीर की 6 शीशी का इस्तेमाल किया जाता है. मामला ज्यादा गंभीर होता है तो कुछ मरीजों को 10 से 11 दिन भी दवा देनी पड़ती है. यानी करीब करीब पौने चार लाख रूपये का खर्च. क्या ये खर्च किसी भी आम अमेरिकी के लिए संभव है?

दवा बनाने वाली कंपनी गिलीड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डेनियल ओ’डे ने एक इंटरव्यू में कहा कि हम चाहते हैं कि मरीजों तक इस दवा के पहुंचने में कोई बाधा न आए. इस दाम से सुनिश्चित हो सकेगा कि दुनियाभर में सभी देशों के मरीजों तक दवा पहुंच सके. गिलीड ने कहा कि सभी सरकारी ईकाईयों के लिए दवा का दाम 390 डॉलर प्रति शीशी होगा. उन्होंने ये भी कहा कि एक बार सप्लाई पर दबाव कम होगा तब इस दवा की बिक्री सामान्य डिस्ट्रीब्युशन चैनल के जरिए की जाएगी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि दूसरे प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों व कॉमर्शियल प्लेयर्स के लिए ये दवा 520 डॉलर प्रति शीशी है यानी 5 दिन के पूरे कोर्स के लिए 3,120 डॉलर का भुगतान करना होगा.

कोविड-19 के इलाज के लिए रेमडेसिवीर का इस्तेमाल शुरू हो गया है. ट्रायल के बाद के नतीजों से पता चला है कि रेमडेसिवीर के इस्तेमाल से मरीजों की रिकवरी तेज से रही है. नतीजों के आधार पर अमेरिकी ड्रग रेग्युलेटर ने रेमडेसिवीर के इस्तेमाल के लिए मई में मंजूरी दी थी. कोरोना से दुनियाभर में करीब पांच लाख लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 1 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमित हैं.

Sonia Gandhi Target Modi Government On Fuel Price Hike: सोनिया का मोदी सरकार पर निशाना, बोलीं- तेल के दाम बढ़ाकर जनता से जबरन वसूले 18 लाख करोड़

Aamir Khan Staff Tested Corona Postive: आमिर खान का स्टाफ कोरोना पॉजिटिव, मां के लिए मांगी दुआ