नई दिल्ली: लगातार डॉलर के मुकाबले रुपए कमजोर होने को लेकर केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि इसके लिए कोई घरेलू आर्थिक स्थिति वजह नहीं है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि अगर आप अंतरराष्ट्रीय या घरेलू स्तर पर देखेंगे तो रुपये के गिरने के पीछे कोई घरेलू कारण नही है बल्कि सभी वजहें वैश्विक हैं.

वित्त मंत्री ने कहा कि हमें यह बात ध्यान रखनी होगी कि डॉलर हर करेंसी से मजबूत है. डॉलर के मुकाबले सभी करंसी कमजोर हुई हैं. रुपया भी किसी भी स्थिति में बहुत कमजोर नहीं रहा है. अगर 4 से 5 साल पुरानी करेंसी से तुलना करें तो रुपया बेहतर स्थिति में था. डॉलर के मजबूत होने के पीछे वित्त मंत्री जेटली ने यूएस की मजबूत पॉलिसी को वजह बताया है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था को इतनी जल्दी घबराने की आवश्यकता नहीं है.

अरुण जेटली ने कहा कि आरबीआई वह सभी कार्य कर रही है जो जरूरी हैं. मुझे नहीं लगता कि इस बात की कोई जरूरत है कि दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था को परेशान होना चाहिए. बता दें कि रुपए में लगातार गिरावट जारी है.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कैबिनेट की बैठ के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा है कि एनडीए सरकार के कार्यकाल में बैंकिंग की दुनिया में क्रांतिकारी बदलाव आए हैं. उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में गरीब, मजदूर वर्ग के लोगों को बैंकिंग सिस्टम से जोड़ा गया है. जेटली ने पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों पर कहा कि ये कम-ज्यादा होते रहते हैं.

डॉलर के मुकाबले 37 पैसे गिरकर 71.58 पर पहुंचा रुपया, लगातार 11वें दिन भी बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम

डॉलर के मुकाबले रुपया और गिरकर 71.18, पेट्रोल 80 से 90 की तरफ बढ़ा, डीजल 80 के नजदीक

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App