Farmers Protest LIVE Updates: नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन लगातार 20वें दिन जारी है. दिल्ली एनसी्आर में बढ़ती ठंड के साथ-साथ किसानों के आंदोलन की गति भी बढ़ती जा रही है. सरकार किसानों को मनाने के लिए आमने सामने बात करने के साथ-साथ बैकडोर चैनल से भी बातचीत करने का प्रयास कर रही है. कृषि कानूनों के सरकार द्वारा लाए गए कानूनों को हटाने की मांग को लेकर आंदोलन को रफ्तार देने के लिए भूख हड़ताल का भी ऐलान किया है.

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने किसानों के आंदोलन पर करते हुए कहा कि किसानों को यह समझना चाहिए कि सरकार किसानों के साथ किसी भी तरह की नाइंसाफी नहीं देनी होगी. केंद्रीय मंत्री ने किसानों को प्रस्ताव को देते हुए कहा है कि वह सरकार के साथ आएं और कानूनों पर बात करें. मोदी सरकार किसानों के कल्याण के लिए समर्पित है. समाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे के किसान आंदोलन में शामिल होने की बात पर नितिन गडकरी ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि अन्ना हजारे आंदोलन में शामिल होंगे.

नितिन गडकरी ने कहा कि किसानों के खिलाफ सरकार ने कुछ नहीं किया है. ये किसानों का अधिकार है कि वह अपनी उपज को मंडी में बेचें या व्यापारी को बेचें या फिर किसी और को बेचें. कुछ लोग किसानों को भ्रमित करने का प्रयास कर रहे हैं. किसानों को इन तीनों कानूनों को समझने की जरूरत हैं. गडकरी ने कहा कि उनकी सरकार किसानों को संवाद के जरिए समझाएगी और बातचीत के जरिए इस गतिरोध का रास्ता निकलेगा.

इन सबके बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों के आंदोलन को लेकर नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने कहा कि सरकार के खिलाफ असहमति जताने वाले छात्र एंटी नेशनल हो जाते हैं. देश के जिम्मेदार और चिंतित नागरिक अर्बन नक्सल हो जाते हैं. प्रवासी मजदूरों को कोरोना का वाहक कहा जाता है. अब विरोध करने वाले किसान खालिस्तानी है और क्रोनी कैपिटलिस्ट उनके सबसे अच्छे मित्र हो जाते हैं.

Farmers Protest: दिल्ली की तरफ निकले राजस्थान के किसान, हरियाणा बॉर्डर पर 3 कंपनी फोर्स तैनात

Ajay Shukla Exclusive Column: लोकतंत्र बचाने के लिए किसानों के साथ आइये

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर