रांची: कोरोना़ की वजह से झारखंड का एक पूरा का पूरा परिवार काल के मुंह में समा गया. देश में ये अपनी तरह का पहला मामला है जहां कोरोना से पूरे परिवार की मौत हो गई है. भारत में अपनी तरह का ये पहला मामला है जहां पूरा का पूरा परिवार खत्म हो गया. बताया जा रहा है कि धनबाद में कतरास के चौधरी परिवार की सबसे बुजुर्ग महिला 27 जून को अपने पोते की शादी समारोह में शामिल होने दिल्ली गई थीं. वहां से लौटने के बाद जब 90 साल की वृद्ध महिला की तबियत बिगड़ी और अस्पताल में भर्ती किया गया तो पता चला कि अम्मा कोरोना पॉजीटिव हैं.

अम्मा को बचाया नहीं जा सका और 4 जुलाई को उनका निधन हो गया. बताया जा रहा है कि वृद्ध महिला के निधन के बाद ही परिवार से गलती हुई क्योंकि वृद्ध महिला का अंतिम संस्कार सामान्य तरीके से हुआ. कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद किस तरह उसका दाह संस्कार करना है उसके लिए आईसीएमआर ने दिशानिर्देश जारी किए हैं जिसका कोई पालन नहीं हुआ.

वृद्ध महिला के सभी बच्चे उनके पार्थिव शरीर के संपर्क में आए और फिर शुरू हुआ मौत का तांडव. वृद्ध महिला के दोनों बेटों को कोरोना की पुष्टि हुई और दोनों की मौत हो गई. फिर दो और बेटे कोरोना पॉजीटिव पाए गए और उनकी भी मौत हो गई. वृद्ध महिला का आखिरी बेटा धनबाद के कोविड अस्पताल में भर्ती था जिसे तबियत ज्यादा बिगड़ने के बाद रिम्स में भर्ती किया गया जहां सोमवार को उसने भी दम तोड़ दिया. इस तरह कोरोना ने एक ही परिवार के पांच लोगों और एक महिला को लील लिया.

UP Home Isolation: यूपी में भी कोरोना मरीजों को मिलेगी होम आइसोलेशन की सुविधा, लेकिन पूरी करनी होगी ये शर्त

Covid-19 Latest Update: देश में विकराल रूप ले रहा है कोरोना, पिछले 24 घंटों में 40 हजार से ज्यादा मामले

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर