नई दिल्ली: कोरोना लॉकडाउन के बीच सोशल मीडिया पर अफवाहों का बाजार गर्म है. फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिए तेजी से फेक न्यूज वायरल हो रही है. ऐसी ही एक खबर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है कि पैसों की कमी के चलते केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है. जिसके पास भी ये खबर पहुंची उसने उसे बिना समझे-जाने फॉरवर्ड कर दिया क्योंकि खबर भी अखबार की नजर आ रही थी और लोग अखबार की खबरों पर तुरंत भरोसा कर लेते हैं

दरअसल सोशल मीडिया पर एक अखबार की कटिंग वायरल हो रही है जिसकी हेडिंग है कि 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को सरकार निकालने वाली है. खबर में दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है क्योंकि सरकार पैसों की कमी से जूझ रही है.

इस न्यूज रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कार्मिक विभाग ने आयुध निर्माणियों और रेलवे से सबसे ज्यादा लोगों को निकालने का मन बनाया है क्योंकि केंद्रीय कर्मचारियों की सबसे बड़ी संख्या इन्हीं दो विभागों में है. वायरल खबर में इस बात का भी जिक्र है कि इस मामले में केंद्रीय कार्मिक विभाग ने जो जानकारी मांगी है, उसमें कर्मचारियों की 55 साल उम्र या फिर 30 साल की नौकरी पूरी होने की बात कही गयी है. खबर में कहा गया है कि जो इन दोनों में से कोई भी क्राइटेरिया पूरा कर रहा होगा उसे नौकरी से निकाल दिया जाएगा.

तेजी से वायरल हो रहे मैसेज को देखते हुए पीआईबी ने ट्वीट कर इस खबर को निराधार और गलत बताया है. अगर आपके पास भी कोई इस खबर का लिंक या फोटो शेयर करे तो उसे बताएं कि ये खबर गलत है और ऐसी खबरों को आगे फॉरवर्ड करने से बचें.

Supreme Court Relief to Employers: सुप्रीम कोर्ट ने दिया लॉकडाउन में पूरी सैलरी ना देने वाली कंपनियों पर सख्त कार्रवाई ना करने का आदेश

Private Hospital Loot Exposed: कोरोना के नाम पर प्राइवेट अस्पतालों में कैसे मची है लूट, जानिए दिल्ली और गुरुग्राम के तीन अस्पतालों का सच