नई दिल्ली. भारतीय सेना और चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक बुधवार को लद्दाख में सीमा के पास टकराव की स्थिति में थे. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, दोनों सेनाओं के सैनिकों के बीच उत्तरी तट पर पैंगोंग झील के पास धक्का-मुक्की हुई. हालांकि, दोनों पक्षों के बीच प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद तनाव कम हो गया. कल प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के बाद मामला पूरी तरह डी-एस्केलेटेड और शांत रहा.

बुधवार सुबह सैनिकों के बीच उस समय हाथापाई शुरू हो गई, जब 134 किलोमीटर लंबे पैंगोंग त्सो के उत्तरी तट पर गश्त कर रहे भारतीय सेना के सैनिक पीएलए सैनिकों (चीनी सैनिकों) से भिड़ गए थे, जिन्होंने इलाके में उनकी मौजूदगी पर आपत्ति जताई थी. चीन पैंगोंग त्सो झील के लगभग दो-तिहाई हिस्से को नियंत्रित करता है जो तिब्बत से लद्दाख तक फैली हुई है. भारतीय सैनिक अपनी मौजूदगी को सही बताते हुए अड़े रहे और इलाके में अतिरिक्त कर्मियों को तैनात किया गया. इसके बाद, दोनों पक्ष अपने ठिकानों पर लौट आए.

भारत ने एक शिकायत दर्ज कराई है और इस मुद्दे को सुलझाने के लिए बॉर्डर पर्सनेल मीटिंग की मांग की. पीएम मोदी और चीनी प्रधानमंत्री शी जिनपिंग के बीच अहम बैठकों के एक महीने पहले बॉर्डर पर हाथापाई की नौबत आ गई है. यह पहली बार नहीं है जब इस तरह की घटना हुई है. पिछले साल अप्रैल में मोदी-शी वुहान शिखर सम्मेलन से पहले, चीनी सैनिकों ने 28 बार वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलओए) का उल्लंघन किया है. धारा 370 के निरस्त होने के चीन के विरोध के बाद दोनों देशों के बीच संबंध तनावपूर्ण बने हुए हैं.

मोदी सरकार द्वारा राज्य को केंद्रशासित प्रदेश घोषित करने के एक दिन बाद, चीनी विदेश मंत्रालय ने कड़ा विरोध करते हुए एक बयान दिया था. तब से, चीन इस कदम की आलोचना में पाकिस्तान का समर्थन कर रहा है और इस बात पर प्रकाश डाला है कि संबंधित पक्षों को संयम बरतना चाहिए और सावधानी के साथ काम करना चाहिए, विशेषकर उन कार्यों से बचने के लिए जो एकतरफा स्थिति को बदलते हैं और तनाव को बढ़ाते हैं.

Noor Wali Mehsud Designated Global Terrorist: पाकिस्तानी आतंकी संगठन तहरीक ए तालिबान के प्रमुख नूर वली मसूद को घोषित किया वैश्विक आतंकी

UN on Kashmir Mediation: कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र से बड़ा झटका, भारत-पाक के बीच मध्यस्थता से इनकार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App