उत्तर प्रदेश, 27 अगस्त. Rape Victim Suicide Case : उत्तर प्रदेश सरकार से अलग होने के बाद पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर (Amitabh Thakur) की मुश्किलें बढ़ने वाली है. अब अमिताभ ठाकुर को एक रेप केस में गिरफ्तार किया गया है. रेप पीड़िता ने ठाकुर पर आपराधिक षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया था, जिसके बाद अमिताभ ठाकुर की गिरफ़्तारी की गई है.

जानिए पूरा मामला

रेप पीड़िता की आत्महत्या से जुड़े मामले में पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया गया है. बता दें कि 2019 में पीड़िता ने सांसद अतुल राय पर रेप के गंभीर आरोप लगाए थे. अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता ने 16 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट के बाहर अपने दोस्त के साथ खुद को आग लगाकर आत्महत्या की कोशिश की थी. इलाज के दौरान पीड़िता और उसके दोस्त ने फेसबुक लाइव किया था, जिसमे उन्होंने एसएसपी अमित पाठक, सीओ अमरेश सिंह, दरोगा संजय राय और उनके बेटे विवेक राय, पूर्व आईजी पर भी उत्पीड़न का आरोप लगाया था. पीड़िता ने अमिताभ ठाकुर पर भी आरोप लगाए थे. पीड़िता के आत्महत्या के बाद इस मामले की जांच एसआईटी को सौंपी गई थी, जिसमे अब अमिताभ ठाकुर को दोषी पाया गया और उनकी गिरफ्तारी की गई. इस मामले में अमिताभ ठाकुर पर मुख्तार अंसारी और अतुल राय को शह देने के आरोप लगाए गए हैं. बता दें कि बीते शनिवार अमिताभ ठाकुर ने अपनी पार्टी ‘अपना अधिकार’ की घोषणा की थी, उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. 

बता दें जब पुलिस अमिताभ ठाकुर की गिरफ्तारी करने पहुंची तब वे पुलिस वैन में बैठने से इनकार करते नज़र आए, इस दौरान उनका कहना था कि, ” मुझे नहीं जाना, मैं नहीं जाऊँगा.” पुलिस ने उन्हें जबरन गाड़ी में बैठाया. वे पुलिस अधिकारियों से एफआईआर दिखाने की मांग कर रहे थे. आरोप है कि इस दौरान उन्होंने एक पुलिसकर्मी पर हाथ भी उठाए . 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- वकीलों की हड़ताल और बहिष्कार को रोकने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने नियम बनाने का प्रस्ताव रखा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर