नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी सरकार ने कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) पर वित्त वर्ष 2018-19 के लिए 8.65 फीसदी ब्याज दर को अधिसूचित कर दिया है. वर्तमान तक ईपीएफओ 2017-18 के लिए तय ब्याज दर 8.55 प्रतिशत के अनुसार ईपीएफ निकासी दावों का निपटान कर रहा था जो वित्त वर्ष 2018-19 के लिए ऊंची ब्याज दर 8.65 प्रतिशत करेगा. श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने बताया कि ईपीएफओ के 6 करोड़ अंशधारकों के खातों में यह ब्याज डाला जाएगा.

भाजपा सरकार में श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने कहा कि उन्हें यह बताने में काफी खुशी हो रही है कि मंत्रालय ने ईपीएफ पर 8.65 फीसदी ब्याज दर को अधिसूचित किया है. यह पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 0.10 प्रतिशत ज्यादा है. संतोष गंगवार ने आगे कहा कि केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद छह करोड़ अंशधारकों के खाते में 2018-19 के लिए 8.65 फीसदी के हिसाब से 54 हजार करोड़ रुपए डाले जाएंगे.

बता दें कि हाल ही में खबर आई थी कि कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अंशधारकों के सभी दावों को अधिकतम तीन दिन के भीतर निपटारे की तैयारी में है. यानी अब अंशधारक आसानी से ऑनलाइन आवेदन कर तीनों दिनों के अंदर अपना पीएफ का पैसा प्राप्त कर सकेगा.

RBI Restriction PMC Bank 1000 Cash Withdrawals: पंजाब और महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक खाता से 6 महीने में सिर्फ 1 हजार निकलेंगे, लोगों ने पूछा- कैसे करें खाना, पढ़ाई, इलाज, शादी का खर्च

7th Pay Commission News Railway Staff: खुशखबरी! रेलवे कर्मचारियों को मिलेगा 78 दिनों का बोनस, लाखों नौकरीधारकों को नरेंद्र मोदी कैबिनेट का फेस्टिवल गिफ्ट

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर