नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के चुनावी रणनीतिकार रह चुके प्रशांत किशोर ने अब खुद राजनीति में उतरने का मन बना लिया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, रविवार शाम को प्रशांत किशोर हैदराबाद में सक्रिय राजनीति में उतरने का ऐलान कर सकते हैं. फिलहाल अभी इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि वह किसी पार्टी से जुड़ेंगे या फिर खुद की नई पार्टी बनाएंगे.

बताया जा रहा है कि इसी साल कई राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव और अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर किसी भी पार्टी को सलाह नहीं देंगे क्योंकि उन्होंने खुद राजनीति में आने का फैसला किया है. बहुत हद तक संभावित है कि प्रशांत किशोर आज शाम हैदराबाद में आयोजित एक कार्यक्रम में अपने राजनीति में उतरने का ऐलान कर सकते हैं. सूत्रों की मानें तो वह खुद इसकी घोषणा करेंगे.

दरअसल प्रशांत किशोर रविवार शाम हैदराबाद के इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस में छात्रों से रूबरू होंगे. यह पहला मौका है जब प्रशांत किसी कार्यक्रम में सामने बैठे लोगों के सवालों का जवाब देंगे. बताते चलें कि प्रशांत कई राजनीतिक पार्टियों के साथ काम कर चुके हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर चलाने का श्रेय उन्हें भी दिया जाता है. 2015 में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के चुनाव प्रचार की कमान भी प्रशांत किशोर ने ही संभाली थी.

इसके बाद 2017 में उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड समेत कई राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में उन्हें कांग्रेस का चुनावी रणनीतिकार बनाया गया. हालांकि कांग्रेस यूपी और उत्तराखंड में कुछ कमाल नहीं दिखा पाई लेकिन पंजाब में जरूर सत्ता पर काबिज हुई. कहा जा रहा है कि इन दिनों प्रशांत दक्षिण भारत में वाईएसआर कांग्रेस के साथ जुडे़ हुए हैं. बीते दिनों यह भी खबरें आईं थीं कि 2019 लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी के लिए चुनावी रणनीति तैयार करते हुए नजर आएंगे. अगर आज प्रशांत किशोर खुद राजनीति में उतरने का ऐलान करते हैं और किसी भी दल के साथ न जाने का फैसला करते हैं तो यह खबरें खुद-ब-खुद खारिज हो जाएंगी.

2019 लोकसभा चुनाव से पहले प्रशांत किशोर की टीम मोदी में होगी घर वापसी?

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App