नई दिल्ली. इस्लाम के पवित्र माह रमजान के पूरा होने के बाद ईद उल फितर 2020 का त्योहार मनाया जाएगा. चांद के अनुसार, इस बार मीठी ईद 23 या 24 मई को मनाई जाएगी. ईद को बरकतों और रहमतों का त्योहार कहा जाता है जिस दिन लोग रमजान का पवित्र माह पूरा होने की खुशी में सुबह के समय होने वाली खास नमाज के बाद घरों में मीठी सेवईं बनाते हैं और एक दूसरे को ईद की बधाई देते हैं. हालांकि, इस साल कोरोन वायरस की वजह से देश में लॉकडाउन है, इसलिए लोगों को घरों में ही ईद की नमाज अदा करनी होगी.

जानिए क्या है ईद का इतिहास

पवित्र माह रमजान के 29वें या 30वें दिन की शाम चांद देखने बाद अगले दिन यानी इस्लामिक कैलेंडर के 10वें महीने की पहली तारीख को ईद का त्योहार मनाया जाता है. साल में ईद का त्योहार दो बार मनाया जाता है जिसमें एक ईद उल फितर यानी मीठी ईद और दूसरा ईद उल जुहा यानी बकरीद कहा जाता है. रमजान के बाद ईद उल फितर का त्योहार मनाया जाता है. ईद उल फितर का एतिहासिक महत्व भी काफी खास है.

इस्लामिक मान्यता के अनुसार, पैगंबर मोहम्मद साहब के जंग ए बदर में जीत हासिल करने के बाद हर साल खुशी में ईद के त्योहार को मनाए जाने की रीत भी शुरू हुई. ईद से पहले रमजान के महीने में मुस्लिम समुदाय के लोग पूरे दिन बिन खाए-पिए कठोर उपवास( रोजा) करते हैं. इस महीने दान का भी विशेष महत्व है, दान को जकात या फितरा कहा जाता है जो किसी भी गरीब को दिया जा सकता है. हालांकि उस गरीब का पेशा ही भीख मांगना न हो.

May Monthly Horoscope 2020: जानिए कैसा रहेगा मई महीना, किस राशि को मिलेगा बंपर लाभ और किसे होगा नुकसान

Eid ul Fitr 2020 Date: कब मनाई जाएगी भारत में ईद उल फितर 2020, लॉकडाउन में घरों में होगी नमाज !

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर