नई दिल्ली. अनऑर्गनाइज्ड सेक्टर के वर्करों के लिए सरकार आज e-SHRAM नाम से एक पोर्टल लॉन्च कर रही है। यह वर्करों का डेटाबेस होगा, जिसमें उनका आधार नंबर, फोन नंबर, होमटाउन जैसी जानकारी होगी। पोर्टल के लॉन्च होने के तुरंत बाद वर्कर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। इस पोर्टल के जरिए सरकार सोशल सिक्योरिटी स्कीमों को उनके दरवाजे पर तक पहुंचाएगी।

मंगलवार को केंद्रीय श्रम मंत्री भूपेंदर यादव ने ई-श्रम पोर्टल का लोगो लॉन्च किया था। इस मौके पर यादव ने कहा था कि यह ‘हमारे राष्ट्र निर्माताओं, हमारे श्रम योगियों’ का नेशनल डेटाबेस होगा। उन्होंने कहा कि सरकार का मकसद अपनी सोशल सिक्योरिटी स्कीमों को जन-जन तक पहुंचना है। अनऑर्गनाइज्ड सेक्टर के वर्करों का नेशनल डेटाबेस यानी ई-श्रम पोर्टल उसी दिशा में उठा कदम है।

ई-श्रम पोर्टल स्कीम के जरिए सरकार अनऑर्गनाइज्ड सेक्टर के 38 करोड़ वर्करों का डेटाबेस बनाना चाहती है। इसका मकसद केंद्र की सोशल सिक्योरिटी स्कीमों को इंटीग्रेट करना है। इस डेटाबेस में मजदूर, प्रवासी मजदूर, रेहड़ी-पटरी वाले, घरेलू कामगार, कंस्ट्रक्शन वर्कर, गिग और प्लेटफॉर्म वर्कर, खेतीहर मजदूर और असंगठित क्षेत्र के दूसरे वर्कर रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे।

Supreme Court: सुप्रीम कोर्ट में जजों की नियुक्ति मामले में सभी 9 नामों पर केंद्र की मुहर, देश को मिल सकती हैं पहली महिला चीफ जस्टिस

ED ने 4 साल पुराने ड्रग्स मामले में रकुल प्रीत सिंह, राणा दग्गुबाती और 10 अन्य को किया तलब

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर