नई दिल्ली: रविवार को स्पाइसजेट का एक विमान एसजी-945 मुंबई से पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर जाते समय काजी नज़रुल इस्लाम एयरपोर्ट पर उतरने से ठीक पहले खतरनाक टरब्यूलेंस का शिकार हो गया। इस हादस में फ्लाइट के ऊपर से सामान गिरने की वजह से करीब 40 यात्री विमान में घायल हो गए । डीजीसीए ने इस विमान की जांच के बाद आज एक रिपोर्ट जारी की है। इस विमान में कुल 195 लोग सवार थे जिनमें दो पायलट और 4 केबिन क्रु मेंबर शामिल थे। मुंबई से विमान 1 मई की शाम 5:13 बजे उड़ा था। इंस्पेक्शन के बाद स्पाइसजेट के इस विमान को कोलकाता में रखा गया है।

काजी नज़रुल इस्लाम एयरपोर्ट पर उतरते समय विमान ने टरब्यूलेंस के कई तीव्र झटके महसूस किए। और वर्टिकल लोड फैक्टर +2.64G से 1.36G के अंतर पर था। इस दौरान विमान के ऑटो पायलट ने 2 मिनट तक काम करना बंद कर दिया था जिसके कारण इसे मैन्यूअली उड़ाया गया। एयरक्राफ्ट से दुर्गापुर एटीसी को बताया गया कि टरब्यूलेंस के कारण कुछ यात्रियों को चोट आई है इसलिए लैंडिंग के बाद मेडिकल सहायता की जरूरत होगी।

डीजीसीए के अनुसार खतरनाक टरब्यूलेंस ये दौरान यह मुख्य बातें हुई

1- 14 यात्री और 3 केबिन क्रु को चोट लगी है। ये चोट छोटे सिर पर, रीड की हड्डी पर, कंधे पर, माथे पर और चेहरे पर आई हैं। इस वक्त इनमें से 3 यात्री अस्पताल में भर्ती हैं।

2- इनमें से 2 यात्री दुर्गापुर में आईसीयू में भर्ती है. एक यात्री को सिर में चोट लगने के कारण उसे डायमंड हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है और दूसरे आदमी को रीड की हड्डी की चोट के कारण मिशन अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

3- टरब्यूलेंस के दौरान ऑक्सीजन पैनल खुल गए और ऑक्सीजन मास्क इस्तेमाल के लिए नीचे गिर गए।

4- विमान की कुछ सीटों के हत्थे और ऊपर लगे डेकोरेटिव पैनल टूट गए। गैलरी का सामान विमान की फ्लोर में बिखर गया।

DGCA ने उठाए ये कदम

– विमान के सभी क्रू मेंबर को फिलहाल जांच पूरी होने तक ड्यूटी से हटा दिया गया है।

– दुर्गापुर से एयरक्राफ्ट को उड़ान भरने का आदेश देने वाले एएमई और मेंटेनेंस कंट्रोल सेंटर के इंचार्ज को भी फिलहाल जांच पूरी होने तक ड्यूटी से हटा दिया है।

– डीजीसीए फिलहाल विमान की विस्तृत जांच कर रही है।

यह भी पढ़े:

गुरुग्राम के मानेसर में भीषण आग, मौके पर दमकल की 35 गाड़ियां

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर