नई दिल्ली. Delhi Pollution: इन दिनों देश की राजधानी दिल्ली प्रदूषण की भारी मार झेल रही है. दीपावली के बाद से ही राजधानी की हवा लगातार खराब बनी हुई है. इसके पीछे किसानों का पराली जलाना और आतिशबाजी को मुख्य कारण बताया जा रहा है. बीते दिनों का एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार चला गया था, इसके बाद हालत कुछ सुधरे ज़रूर लेकिन दिल्ली की हवा अभी भी ख़तरनाक़ स्थिति में बरक़रार है. अब भी दिल्ली की आबोहवा बेहद गंभीर श्रेणी में बनी हुई है.

AQI 300 पार

दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण रोज़ाना खतरनाक और बेहद खतरनाक स्तर पर बना रहता है ऐसे में प्रदेशवासियों के लिए खुली हवा में सांस लेना भी दूभर हो गया है. प्रदूषण के चलते लोग आंखों में जलन और सांस लेने में दिक्कतों की शिकायत कर रहे हैं. हालांकि, दिल्ली में अब तेज़ हवाओं का दौर शुरू हो गया है, जिससे प्रदूषण के कम होने के आसार हैं.

सोमवार के बाद तेज़ हवाओं के चलते दिल्ली में प्रदूषण का स्तर कम हुआ था, प्रदूषण ‘बेहद गंभीर’ से ‘गंभीर’ श्रेणी पहुँच गया था, लेकिन मंगलवार को जैसे ही सर्दी बढ़ने के बाद हवाओं की गति धीमी हुई प्रदूषण का स्तर एक बार फिर बढ़ गया और ये ‘बेहद खराब’ श्रेणी में पहुंच गया. सफर इंडिया द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक़ बुधवार को प्रदूषण के स्तर में थोड़ी गिरावट देखने को मिली है, AQI 280 दर्ज किया गया है. हालंकि, प्रदूषण का स्तर अब भी ‘ख़राब’ श्रेणी में बना हुआ है.

प्रदूषण कम करने के लिए दिल्ली सरकार के उपाय

दिल्ली में प्रदूषण की समस्या बढ़ती ही जा रही है, जिससे निपटने के लिए बीते दिनों डीडीएमए ने मेट्रो और बसेस में खड़े होकर यात्रा करने की अनुमति दे दी थी. DDMA के इस फैसले के बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि कुछ दिनों में प्रदूषण के स्तर में और गिरावट देखने को मिलेगी. मौसम विभाग (IMD) के पूर्वानुमान के अनुसार, हवाओं की गति अच्छी रहने से प्रदूषण के स्तर में काफी कमी आने के साथ AQI 300 के नीचे भी पहुंच सकता है.

यह भी पढ़ें :

Corona News: AIIMS डायरेक्टर डॉ गुलेरिया बोले तीसरी लहर की संभावना कम, कोरोना वैक्सीन के बूस्टर डोज़ की भी नहीं है ज़रुरत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 नवंबर को करेंगे Jewar Airport का शिलान्यास, उत्तर प्रदेश को मिलेगा 5वां अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर