नई दिल्ली. दीपावली से पहले दिल्ली एनसीआर की हवा में प्रदूषण की मात्रा खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. इससे यहां रहने वालें लोगाों को सांस लेने में परेशानी बढ़ गई है. दिल्ली-एनसीआर में रहने वालें बीमार और बूढ़े लोगों को सबसे ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. अगर दिल्ली का यहीं हाल रहा तो, बच्चों के सेहत पर भी इसका काफी बुरा असर पड़ेगा. इस समय दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण पहली बार सबसे खतरनाक स्तर पर पहुंच गया है. बुधवार के सुबह में दिल्ली, गुरूग्राम, फरीदाबाद और गाजियाबाद में प्रदूषण के कारण स्मॉग की मोटी चादर आसमान में छाई रही. इन क्षेत्रों की एयर क्वॉलिटी इंडेक्स लेवल बहुत ही खराब रहा.

दिल्ली-एनसीआर में जो प्रदूषण बढ़ा है . इसका मुख्य कारण हरियाणा और पंजाब के खेतों में जलाए जा रहें पराली है. इन खेतों में जलने वालें पराली के घुआं अब दिल्ली और इसके आस-पास के इलाकों में पहुच रहा है. जिसके वजह से यहां की हवा जहरीली होता जा रही है. आज सुबह दिल्ली के आस- पास की एयर क्वॉलिटी इंडेक्स दर्ज किया गया जिसमें प्रदूषण की मात्रा 309 रहीं. अगर एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में प्रदूषण की मात्रा 0 से 50 हो तो हवा की गुणवत्ता अच्छा है, 51 से 100 हो तो हवा की गुणवत्ता संतुष्टी लायक है, 100 से 200 हो तो हवा की गुणवत्ता ठीक है, 201 से 300 है हो तो हवा की गुणवत्ता खराब है, 301 से 400 के बीच हो तो हवा की गुणवत्ता बहुत ही खराब है, 400 से 500 के बीच है तो हवा की गुणवत्ता गंभीर स्तर पर है. इसका बहुत व्यापक असर आपके जीवन शैली पर पड़ेगा.

दिल्ली की सरकार ने नासा के द्वारा ली गई तस्वीर को शेयर किया है. जिसमें साफ देखा जा सकता है दिल्ली के पड़ोसी राज्यों के खेतों में पराली जलाएं जा रहे हैं. साथ ही कौन-कौन से क्षेत्र प्रदूषण के चपेट में हैं वो भी साफ दिख रहा है. भारत के केन्द्रीय स्वास्थ मंत्री डा. हर्षवर्धन ने कहा कि हर साल अक्टूबर- नवबंर के समय दिल्ली के आस-पास के इलाकों में हवा में प्रदूषण की मात्रा बढ़ जाती है. दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि तमाम तरह की कोर्ट के चेतावनी देने के बाद भी पड़ोसी राज्यों में पराली जलाना नहीं रूक रहा है. इसके लिए वहां की सरकार बिल्कुल कोई योजना नहीं ला रही है. इसके वजह से हर साल दिल्ली में रहने वालों का प्रदूषित हवा में रहने को मजबूर हैं. दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण की मात्रा में बढ़ोतरी उस वक्त हुई है.कल ही किसानों के पराली जलाने को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल में दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और यूपी के अधिकारियों को एनजीटी ने फटकार लगाई और कहा कि सीधे एक्शन प्लान बताएं कि कैसे रोकेंगे.

Also Read, ये भी पढ़े-Delhi NCR Diwali Parali Pollution NGT: दिल्ली-एनसीआर में दिवाली से पहले प्रदूषण पर एनजीटी की फटकार, पराली जलाने पर पंजाब, हरियाणा और यूपी सरकार से पूछा क्या है प्लान, 15 नवंबर तक मांगी रिपोर्ट

Delhi NCR Diwali Parali Pollution Four Graded Plan: पंजाब हरियाणा में पराली जलाने से दिल्ली एनसीआर में दिवाली से पहले वायु प्रदूषण रोकने को प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का पीएम 10 पीएम 2.5 को लेकर चार स्तर का ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान

Also Read, ये भी पढ़े-Delhi Police to Withdraw Traffic Challan: ओवर स्पीडिंग के 1.5 लाख ई चालान वापस लेगी दिल्ली ट्रैफिक पुलिस

7th Pay Commission, 7th CPC Latest News: सातवें वेतनमान के तहत इस राज्य के 14 लाख कर्मचारियों की सैलरी में होगी बंपर बढ़ोतरी

Air Quality Index in Delhi NCR: दिल्ली-एनसीआर एक बार फिर प्रदूषण की चपेट में हवा की गुणवत्ता बेहद खराब स्तर पर पहुंची

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App