नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली और एनसीआर  की वायु प्रदुषण स्थिति एक बार फिर बिगड़ती जा रही है. पीएम 2.5 और पीएम 10 का लेवल लगातार नीचे जा रहा है. गुरुवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 211 अंक के आंकड़ें को पार करते हुए 228 तक पहुंच गया. इस स्तर की हवा खराब श्रेणी में आती है. विशेषज्ञों का तो ये भी कहना है कि अगले कुछ दिनों में वायु गुणवत्ता की स्थिति और ज्यादा खराब हो सकती है. हाल में बीते तीन महीने दिल्ली के लोगों ने साफ-सुथरी हवा में सांस ली जो अब समाप्त हो चुकी है.

केंद्रीय प्रदुषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, वायु गुणवत्ता का एक्यूआई जुलाई में ही 235 के अंक पर पहुंच गया था जो खराब श्रेणी में आता है. जिसके बाद से एक्यूआई लगातार 200 से नीचे है. गुजरे तीन दिनों में एक्यूआई की बहुत तेजी से बढ़ोतरी हुई. बीते बुधवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक 173 के अंक पर था लेकिन गुरुवार को इसमें 38 पॉ़इंट्स की बढ़ोतरी हुई और यह खराब श्रेणी में पहुंच गया.

वहीं पिछले 6 दिनों की बात करें तो इस दौरान राजधानी में वायु प्रदुषण की मात्रा दोगुने से ज्यादा हो गई है. 5 अक्टूबर को जहां एक तरफ दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक 98 अंक के साथ संतोषजनक श्रेणी में थी तो 10 अक्टूबर को यानी 6 दिन बाद एक्यूआई का लेवल 211 अंक के साथ खराब श्रेणी के स्तर पर पहुंच गया.

दिल्ली में वायु प्रदुषण बढ़ने के पीछे हवा की दिशा में आए बदलाव को भी बताया जा रहा है. बुधवार को हवा दिशा पूर्व की ओर से थी, जबकि गुरुवार को यह पश्चिम की ओर से हो गई. इसके चलते हवा में प्रदूषक तत्वों की मात्रा भी बढ़ी है. हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने के मामलों में बढ़ोतरी हुई है. ऐसे में हवा की दिशा उत्तर-पश्चिम होने की वजह से ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ रही है.

Narendra Modi Govt Holds Arvind Kejriwal Denmark Visit: नरेंद्र मोदी सरकार ने अरविंद केजरीवाल को नहीं दी C 40 जलवायु सम्मेलन के लिए डेनमार्क जाने की अनुमति, संजय सिंह बोले- छुट्टी मनाने नहीं जा रहे हैं दिल्ली सीएम

Delhi Assembly Elections 2020 Date: नए साल में पहला चुनाव होगा दिल्ली विधानसभा का, इस साल झारखंड में इलेक्शन

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर