नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी सरकार के नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में मुस्लिम समुदाय का विरोध प्रदर्शन जारी है. इस बीच दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने प्रदर्शनकारियों से शांति से प्रदर्शन करने की अपील की है. उन्होंने कहा कि प्रदर्शन करना देश के लोगों के लोकतांत्रिक अधिकार है जिसे करने से हमें कोई नहीं रोक सकता है लेकिन सबसे जरूरी है कि प्रदर्शन में भावनाओं को नियत्रंण में रखना.

दिल्ली जामा मस्जिद के शाही इमाम ने लोगों को समझाते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी के बीच काफी फर्क है. पहला कि नागरिकता संशोधन बिल अब कानून बन चुका है, दूसरा एनआरसी जिसकी सिर्फ केंद्र सरकार ने घोषणा की है जो अभी तक कानून नहीं बना है.

शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने आगे कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के अंतर्गत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए मुस्लिम शरणार्थियों को भारत की नागरिकता नहीं मिलेगी. इससे भारत में रहने वाले मुसलमानों का कोई लेना-देना नहीं है.

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन, कई जगह हिंसा केंद्र की भाजपा सरकार के नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ असम से शुरू हुआ विरोध प्रदर्शन पूरे देश में फैल चुका है. अलग-अलग राज्यों में लोगों ने नए कानून के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया.

असम और दिल्ली के कई इलाकों में लोगों का प्रदर्शन हिंसक रूप ले गया. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो असम में अभी तक कई लोगों की विरोध प्रदर्शन की हिंसा में जान जा चुकी है. हालांकि दिल्ली में किसी आम नागरिक की जान जाने की कोई खबर नहीं आई है.

Anti CAA Protests In Jafrabad Seelampur: जामिया नगर के बाद अब जाफराबाद सीलमपुर इलाके में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन, प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर फेंके पत्थर, आगजनी

Mayawati Attacks Narendra Modi Govt Over CAA: नागरिकता संशोधन कानून को लेकर यूपी विधानसभा में हंगामा, बसपा सुप्रीमो मायावती बोलीं- सीएए को वापस ले सरकार नहीं तो आपातकाल जैसी स्थिति बन जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर