Intranasal Booster Dose

नई दिल्ली. Intranasal Booster Dose कोरोना के खिलाफ ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ने भारत बायोटेक को इंट्रानैसल कोरोना वायरस बूस्टर डोज (Intranasal Booster Dose) के ट्रायल की अनुमति दे दी है. इस बूस्टर डोज़ का ट्रायल भारत के 9 अलग-अलग जगह पर किया जाएगा। इससे पहले भारत बायोटेक को वैक्सीन के ट्रायल के लिए सभी दस्तावेज को पेश करने के लिए तीन हफ्ते का समय दिया गया था, जिसके बाद अब DCGI ने कंपनी को वैक्सीन के ट्रायल की इज़ाज़त दे दी है.

वैक्सीन अब निजी अस्पतालों में भी उपलब्ध

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत बायोटेक एकमात्र ऐसी दूसरी कंपनी है जिसने तीसरे डोज के तीसरे चरण के ट्रायल के लिए आवेदन किया था. ऐसा माना जा रहा है कि Intranasal Booster Dose वैक्सीन में ओमिक्रॉन सहित कोरोना वायरस के विभिन्न वेरिएंट को फैलने से रोकने की क्षमता होती है. वहीँ बीते दिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Health Minister Mansukh Mandaviya) ने कहा कि DCGI की कुछ शर्तो के आधार पर कोरोना के खिलाफ लड़ाई को तेज करने के लिए कोविड​​​-19 वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सिन को बाजार में उतारने की अनुमति दी है.

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि भले ही कोविड​​​-19 वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सिन को बाजारों में उतारा जा रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह आम दुकानों में लोगों को मिल पाएगी। उन्होंने कहा कि ये वैक्सीन केवल निजी अस्पताल या फिर क्लीनिक पर उपलब्ध होगी और लोग यहां से कोरोना के खिलाफ पहली, दूसरी और तीसरी डोज़ ले सकते है.

बता दें तीसरी डोज़ केवल अभी 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए उपलब्ध है साथ ही फ्रंटलाइन कर्मियों और स्वस्थ्य कर्मियों को लगेगी.

Lata Mangeshkar Health Update: सुर कोकिला की हालत नाजुक, डॉक्टर ने कहा दुआ की ज़रूरत

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर