नई दिल्ली: गुजरात की तरफ तेजी से बढ़ रहे चक्रवाती तूफान वायु को लेकर मंगलवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की और उन्हें लोगों की सुरक्षा से जुड़े सभी जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए. एनडीआरएफ ने अपनी 25 टीमों को राहत और बचाव कार्य के लिए लगा दिया है जिसमें हर टीम में 45 लोग हैं. गृहमंत्री ने अधिकारियों से जरूरी चीजें जैसे बिजली, संचार, पाने का पानी आदि जैसी तैयारियों का दोबारा जायजा लेने को कहा है. इसके अलावा गृह मंत्रालय गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक और दमन-दीव से भी लगातार संपर्क में है. उम्मीद है इन इलाकों में भी चक्रवाती तूफान वायु का प्रकोप बढ़ सकता है.   

मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार 13 जून को चक्रवाती तूफान वायु गुजरात के तटों पोरबंदर और महुबा में वेरवल और दीव की तरफ से 110-120 किलोमीटर की रफ्तार से टकरा सकते हैं जिसकी गति 135 किलोमीटर तक जा सकती है. गुजरात की तटीय इलाके भावनगर, अमरेली, गीर सोमनाथ, जूनागढ़, पोरबंदर, जामनगर, देवभूमि द्वारका, राजकोट, मोरबी और कच्छ तूफान वायु की वजह से प्रभावित हो सकते हैं. इन जिलों के सभी स्कूल कॉलेजों को 12 जून से 14 जून के बीच बंद रखने का आदेश दिया गया है.

गौरतलब है कि बंगाल की खाड़ी में बनने वाले तूफान अरब सागर में बनने वाले तूफान से कहीं ज्यादा मजबूत होते हैं. चक्रवाती तूफान वायु अरब सागर में बना है, ऐसे में मौसम विभाग के मुताबिक उम्मीद है कि इसकी रफ्तार 120 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है. सागर का असर गुजरात में दिखना शुरू हो गया है. सौराष्ठ और कच्छ में भारी बारिश शुरू हो चुकी है. चक्रवाती तूफान वायु तेजी से गुजरात की तरफ बढ़ रहा है. मौसम विभाग के मुताबिक इसका असर कर्नाटक, केरल, कोंकर्ण और गोवा में भी देखने को मिलेगा. मौसम विभाग के मुताबिक चक्रवाती तूफान वायु की वजह से समुंद्र तटों पर 3.5 से 5.5 मीटर तक ऊंची लहरें उठेंगी. 

मौसम विभाग ने लोगों को सलाह दी है कि बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलें. घर के भीतर खाने-पीने की चीजें और पानी का पर्याप्त इंतजाम रखें. इसके अलावा घर में टॉर्च भी रखें.  घर में फर्स्ट एड यानी प्राथमिक उपचार की किट जरूर रखें. पानी में डालने के लिए क्लोरीन की गोलियां रखें. अक्सर तूफान के समय नेटवर्क काम नहीं करता लेकिन रेडियो काम करता है और प्रशासन रेडियो के जरिए ही लोगों तक संदेश पहुंचाता है लिहाजा रेडियो भी घर में जरूर रखें ताकि आपको समय-समय पर जानकारी मिलती रहे. अगर आप तटीय इलाकों में रहते हैं तो तटों से दूर रहें और अगर आपको खतरा ज्यादा लग रहा है तो सरकार द्वारा बनाए गए राहत शिविरों में रहें.  

Gujarat Cyclone Vayu: फोनी के बाद भारत में तबाही मचाएगा चक्रवाती तूफान वायु, गुजरात समेत इन राज्यों में अलर्ट जारी

Mumbai Monsoon 2019 Date Tracker Updates: केरल में भारी बारिश, मुबंई में मानसून ने दी दस्तक, उत्तर भारत के उत्तर प्रदेश, दिल्ली समेत कई राज्यों में गर्मी का प्रकोप जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App