लखनऊ: उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में बीमार गाय को डॉक्टर के पास ले जा रहे ब्राम्हण को गौरक्षकों ने तस्कर समझ लिया और फिर उनका मुंह काला करके पूरा गांव घुमा दिया. जी हां, गाय के ठेकेदारों ने इस बार ब्राम्हण को ही गौतस्कर समझकर इंसानियत की हदें पार कर दी और उनके कपड़े फाड़ दिए, उनका मुंह काला कर दिया और फिर पूरे गांव में गौतस्कर बोलकर परेड़ करवा दी.

बताया जा रहा है कि ये शख्स बीमार गाय को जानवरों के डॉक्टर के पास दिखाने जा रहा था जब ये कांड हुआ. इस मामले में पुलिस ने अबतक चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. जानकारी के मुताबिक बलरामपुर जिले के लक्ष्णमणपुर गांव के रहने वाले 70 वर्षीय कैलाश नाथ शुक्ला 30 अगस्त को अपनी बीमार गाय का इलाज कराने के लिए दूसरे गांव जा रहे थे.

रास्ते में नानपुर गांव के पास से जब वो गुजर रहे थे तो कुछ लोगों ने उन्हें घेर लिया और गौ तस्कर समझकर उनकी पिटाई शुरू कर दी. कैलाश नाथ ने उन्हें बताया कि वो जाति से ब्राम्हण हैं और अपनी बीमार गाय का इलाज करवाने के लिए ले जा रहे हैं लेकिन भीड़ ने उनकी एक ना सुनी और उन्हें बुरी तरफ पीटा और गटर में फेंक दिया.

भीड़ का गुस्सा फिर भी शांत नहीं हुआ और उन्होंने कैलाश नाथ को गटर से बाहर निकालकर उनका सिर मुंड दिया और चेहरे पर कालिख पोतकर गले में रस्सी बांधकर पूरे गांव में घुमाया.

गौरक्षा के नाम पर भीड़ की दरिंदगी, बिहार में 4 युवकों की बेरहमी से पिटाई

ससुर से निकाह-हलाला के बाद मां बनी महिला ने पति सहित पांच के खिलाफ दर्ज कराई गैंगरेप की रिपोर्ट

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App