नई दिल्ली: सोमवार से शुरू हुए संसद के मॉनसून सत्र से पहले सभी सांसदों का कोरोना टेस्ट किया गया था जिनमें 17 सांसद कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं. जानकारी के मुताबिक सभी सांसदों का 13 और 14 सितंबर को संसद भवन में कोविड-19 टेस्ट किया गया था जिनमें 25 सांसदों के कोरोना संक्रमित होने की खबर आई है. उन सांसदों में 12 बीजेपी, 2 वाईएसआर कांग्रेस, एक शिवसेना, एक डीएमके और एक सांसद आरएलपी के हैं. पॉ‍जिटिव पाए गए सांसदों में से लोकसभा के 17 और राज्‍यसभा के 8 सांसद शामिल हैं. मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले यह नियम बनाया गया था कि सभी सांसद और कर्मचारियों का कोविड टेस्ट कराया जाएगा और रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही उन्हें परिसर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी. नियम यह भी है कि उनकी रिपोर्ट 72 घंटे से ज्यादा पहले की नहीं होनी चाहिए.

जिन सांसदों की कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आई है उनमें मीनाक्षी लेखी (भाजपा), प्रवेश साहिब सिंह (भाजपा), सत्यपाल सिंह (भाजपा), सुखबीर सिंह (भाजपा), सुकांता मजूमदार (भाजपा), अनंत हेगड़े (भाजपा), जनार्दन सिंह सिग्रीवाल (भाजपा), रामशंकर कठेरिया (भाजपा), प्रताप राव पाटिल (भाजपा), विद्युत बरन महतो (भाजपा), प्रधान बरुआ (भाजपा), रोडमल नागर (भाजपा) हनुमान बेनीवाल (आरएलपी), जी माधवी (वाईआरएससी), प्रताप राव जाधव (शिवसेना), एन रेडेप्पा (वाईआरएससी), और सेल्वम जी (डीएमके) शामिल हैं.

बता दें कि मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले दोनों सदनों के कई उम्रदराज सांसदों ने इसपर चिंता जताई थी. उनका कहना था कि सत्र शुरू होने पर गाइडलाइंस के बीच भी हर वक्त परिसर में कम से कम 2,000 लोग मौजूद रहेंगे. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, राज्यसभा के 240 सांसदों में से 97 सांसद 65 साल से ज्यादा की उम्र के हैं, वहीं 20 ऐसे सांसद हैं, जिनकी उम्र 80 साल के ऊपर है, जिसमें 87 साल के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और 82 साल के एके एंटनी का नाम भी शामिल है. मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले सांसदों तथा कर्मचारियों समेत 4000 से ज्यादा लोगों की कोरोना जांच की गई थी.

Govt on Migrant Laborers Death: लॉकडाउन में कितने प्रवासी मजदूर मारे गए? विपक्ष के सवाल पर सरकार ने कहा- पता नहीं

Monsoon Session: मानसून सत्र का पहला दिन, लोकसभा में कांग्रेस के अधीर रंजन को स्पीकर ने कराया चुप

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर