नई दिल्ली/ देश में कोरोना बेकाबू होता जा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर पहली लहर से काफी खतरनाक साबित हो रही है। भारत में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि 11 से 15 मई कोरोना पीक पर होगा। वैज्ञानिकों ने गणितीय मॉडल के जरिए कोरोना संक्रमण के बढ़ते केस पर जो अध्‍ययन किया है, उसके मुताबिक मई माह के 11 से 15 तारीख के बीच में कोरोना संक्रमितों की संख्‍या वर्तमान समय से कई गुना बढ़ सकती है।

देश में कोरोना पॉजिटिव के नए मामलों की रफ्तार को देखते हुए गणितीय पद्धति के आधार पर काम कर रहे वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाते हुए संभावना जताई है। उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्‍या अभी और बढ़ेगी। कोरोना की दूसरी लहर का प्रकोप जल्‍द खत्‍म हो जाएगा ये गलत होगा। मई माह की 11 से 15 मई की तारीख के बीच कोरोना अपने चरम पर पहुंच जाएगा। इस दौराना कोरोना के नए केस का सर्वाधिक रिकार्ड दर्ज हो सकता है लेकिन विशेषज्ञों ने ये भी राहत भरी बात बताई है इसके बाद तेजी से कोरोना केसों में गिरावट आएगी। बता दें कि पिछले साल 17 सितंबर को कोरोना पीक पर था, लेकिन इस साल हालात काफी ज्‍यादा खराब होते दिखाई दे रहे हैं।

बता दें कि अभी देश में कुल 24 लाख 28 हजार 616 एक्टिव केस हैं। 47% महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक से हैं। सबसे ज्यादा महाराष्ट्र में 7,01,614 एक्टिव केस है और ये कुल एक्टिव केस का 28.88% है। उत्तर प्रदेश में कुल 2 लाख 59 हजार 810 कुल एक्टिव केस का 10.70% है। कर्नाटक में 1 लाख 96 हजार 255 कुल 8.08% एक्टिव केस है। जिसके कारण 10 दिन बाद 11 से 15 मई तक बढ़कर 33 से 35 लाख कोरोना केसों को संख्‍या पहुंच सकती है।

Covid Patient Dead Body Exchange: कोविड मृतक का गलत शव दिया, फिर कहा- जो शव मिला है उसी का अंतिम संस्कार कर लो

Kejriwal and PM Modi Meeting on Corona Crisis: सर हाथ जोड़कर प्रार्थना है ऑक्सीजन के लिए एक फोन कर दीजिए, पीएम मोदी से बोले अरविंद केजरीवाल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर