नई दिल्ली. फिलहाल दुनिया में कहीं भी कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर डोज देने की जरुरत नहीं है। ये बात विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कही है। WHO ने बुधवार को कहा कि सबसे पहले हमें दुनिया के गरीब देशों की आबादी को पूरी तरह वैक्सिनेट करने के बारे में सोचना चाहिए। इसके बाद ही अमीर देशों को वैक्सीन की बूस्टर डोज देने के बारे में फैसला लेना चाहिए।

WHO की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन ने कहा, “कोविड-19 के ताजा आंकड़ों पर गौर करने के बाद हम इस बात को यकीन से कह सकते हैं कि फिलहाल बूस्टर डोज की कहीं भी जरुरत नहीं है। इसके लिए अभी और रीसर्च की जरुरत है।” WHO का ये बयान ऐसे समय में आया है जब अमेरिका ने 20 सितंबर से अपने सभी नागरिकों के लिए कोविड वैक्सीन की बूस्टर डोज उपलब्ध करने की बात कही है।

WHO के वरिष्ठ सलाहकार ब्रूस एलवर्ड ने अमीर देशों में कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर डोज दिए जाने की बात पर कहा, “दुनिया में इस वक्त पर्याप्त संख्या में वैक्सीन उपलब्ध है। परेशानी की बात ये है कि ये सही संख्या में सही जगह नहीं पहुंच रही है।”

साथ ही उन्होंने कहा, “गरीब देशों के सभी नागरिकों जब तक वैक्सीन की दोनों डोज नहीं दे दी जाती तब तक दुनिया के अमीर देशों को अपने नागरिकों को बूस्टर डोज देने के बारे में सोचना भी नहीं चाहिए। हालांकि गरीब देशों की पूरी आबादी को वैक्सीन की दोनों डोज उपलब्ध कराने के लक्ष्य से हम अब भी बहुत दूर हैं।”

Afghanistan Crisis : तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद भारत के साथ आयात-निर्यात रोका

Afghanistan Crisis: अफगानिस्तान प्रेसिडेंट अशरफ गनी अबू धाबी में, वतन वापस लौटेंगे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर