नई दिल्ली. देश में कोरोना के मामले बेतहाशा बढ़ रहे हैं। ऐसे में अब सभी लोग वैक्सीन की ओर उम्मीद लगाए हैं। लेकिन वैक्सीन से जुड़े कई सवाल लोगों के मन में रहते हैं। ऐसे ही सवालों के जवाब हम लेकर आए हैं। पहला और सबसे अहम सवाल ये कि आखिर वैक्सीन की पहली डोज़ के बाद दूसरा इंजेक्शन कम से कम कितने दिनों के भीतर लगवाना चाहिए।

अमूमन वैक्सीन के दो इंजेक्शन के बीच में कम से कम 28 दिनों का अंतराल ज़रूरी है। लेकिन अगर वैक्सीन के पहले डोज़ के बाद कोई संक्रमित हो जाता है तो ऐसे में उसे चाहिए कि दूसरा डोज़ रिकवरी से 4 से 8 हफ्ते बाद लगवाए।

दूसरे डोज़ का ये 4 से 8 हफ्ते जो स्थगन काल है ये उन लोगों के लिए है जो

-जिस व्यक्ति के अंदर कोविड 19 संक्रमण के लक्षण ऐक्टिव हो।
– कोविड 19 का वो मरीज़ जिसने हाल में प्लाज़्मा दिया हो
– जो किसी अन्य बीमारी की वजह से बहुत ज़्यादा बीमार हों।

वैक्सीन के बाद भी बचाव ज़रूरी

सरकार के द्वारा ये कई बार बताया जा चुका है कि वैक्सीन के बाद भी आपको सावधान और सतर्क रहने की ज़रूरत है। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है। ऐसा इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि कोविड 19 की वैक्सीन को अभी तक किसी ने भी 100 फीसद कारगर नहीं बताया है। ये 80 फीसद कारगर है। यानी 20 फीसद चांस है कि आपको कोरोना हो सकता है।

लेकिन बीबीसी से बातचीत में मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज में कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के हेड डॉक्टर सुनीला गर्ग ने बताया कि भले ही वैक्सीन लगने के बाद कुछ प्रतिशत आशंका हो कि कोरोना हो सकता है लेकिन वैक्सीन लगवाने के बाद आपको सीवियर कोविड 19 बीमारी नहीं होगी। कोरोना की वजह से आपकी जान नहीं जाएगी।

माइल्ड कोविड-19 या बिना लक्षण वाले कोरोना होने की संभावना फिर भी रहती है. यानी कोई सुरक्षा कवच ना होना और एक सुरक्षा कवच होना – दोनों में से चुनना हो तो आप किसे चुनेंगे? ज़ाहिर है सुरक्षा कवच को. इसलिए वैक्सीन लगवाना चाहिए।

Hemant Soren Attack PM Modi on Social Media : फोर पर अपने मन की बात सुना रहे हैं पीएम मोदी, हेमंत सोरेन के ट्वीट से मचा बवाल

Delhi Quarantine Guidelines : दिल्ली सरकार का अहम फैसला, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से दिल्ली आने वालों को 14 दिनों का क्वारंटीन जरूरी