नई दिल्ली. पूरे भारत में कोरोना का कहर कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है. सबसे ज्यादा केस  आए दिन महाराष्ट्र में  आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में  66 हजार कोरोना के  नए मामले सामने आए हैं. वहीं अब धीरे-धीरे मरीजों के इलाज के लिए जरूरी दवाओं और संसाधनों की कमी देखने को मिल रही है.

इस कड़ी में मुंबई के लीलावती अस्पताल के डॉक्टर ने कहा है कि हॅास्पिटल में वैक्सीन और जीवन रक्षक दवाओं की बहुत कमी हो रही है. महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले में हॅास्पिटल में  बेड की कमी होने के कारण कोरोना मरीजों को चैयर पर बिठाकर ऑक्सीजन दिया जा रहा है.

एक चैनल से से बात करते हुए मुंबई के लीलावती अस्पताल के डॉक्टर डॉ जलील पारकर ने कहा कि मेरे अस्पताल में पिछले दो-तीन दिनों से टीके नहीं हैं. रेमडेसिवीर की कमी है, टोसिलिज़ुमैब की भी कमी है. हम मरीजों को बचाने के लिए भीख मांगने, उधार लेने, चोरी करने के लिए मजबूर हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि मेरे तरफ से बस एक ही निवेदन है कि भगवान के लिए रेमडेसिवीर और टोसिलिज़ुमैब को उपलब्ध करवाया जाए. क्योंकि यही एकमात्र तरीका है जिससे हम जीवन बचा सकते हैं.

उस्मानाबाद जिले के हॅास्पिटल का एक वीडियो वायरल हुआ है. जिसमें मरीजों को कुर्सी पर बैठाकर ऑक्सीजन दी जा रही है. उस्मानाबाद में पिछले 24 घंटे में 681 नए मरीज सामने आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार भारत के कुल सक्रिय मामलों में 70.82% प्रतिशत मामले पांच राज्य महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और केरल में हैं. महाराष्ट्र में 48. 57 प्रतिशत मामले हैं.

विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में दूसरी लहर के लौटने और इतने प्रचंड रूप के पीछे कोरोना का नया स्ट्रेन और डबल म्यूटेंट वायरस जिम्मेदार है.  इस नए फेज में युवा और बच्चों में संक्रमण तेजी से हो रहे हैं.आसीएमआर ने कहा है कि लोगों को नई लहर से पैनिक होने की जरूरत नहीं है. सरकारी प्रयासों के अलावा लोगों को अपने लेवर पर भी संक्रमण से बचने और उसे फैलने से रोकने के लिए कदम उठाने की अपील की गयी है.

सुप्रीम कोर्ट में कोरोना कहर, 50 प्रतिशत स्टॅाफ कोविड पॅाजिटिव, अगले आदेश तक सभी सुनावाई निलंबित

Bank Holidays 2021: आज ही निपटा लें अपने बैंक का जरूरी काम, 13 अप्रैल से लगातार 6 दिन रहेगी छुट्टी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर