नई दिल्ली. पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में एक सनसनी खेज मामला सामने आया है जहां कोविड -19 से संक्रमित एक जीवित व्यक्ति को मृत घोषित कर दिया गया और उसके परिवार के सदस्यों को मृत्यु प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया.

पीएमसीएच के एक डॉक्टर ने कहा कि बरह पुलिस स्टेशन के पास बिहार के मोहम्मदपुर के रहने वाले चुन्नू कुमार को 9 अप्रैल को ब्रेन हैमरेज होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्होंने एक कोरोनोवायरस टेस्ट किया इलाज के के दौरान वह कोरोना पॅाजिटिव पाए गए. फिर उन्हें कोरोना वार्ड में भर्ती कराया गया और इलाज शुरू किया गया.

पीड़ित की पत्नी और भाई को अस्पताल प्रशासन ने रविवार को बताया कि चुन्नू की मौत हो गई है. मृत्यु के बाद शव को निकालने की हड़बड़ी में, अस्पताल प्रशासन ने मरीज के शव को सील कर दिया और चुन्नू के भाई मनोज कुमार को सौंप दिया और मृत्यु प्रमाणपत्र भी जारी कर दिया.

वे अस्पताल प्रशासन की देखरेख में दाह संस्कार के लिए शव ले जा रहे थे जब मृतक की पत्नी ने आखिरी बार अपने पति को देखने के लिए जोर दिया. परिवार के सदस्यों के अनुसार, जब शरीर से ढंके कपड़े को हटाया गया, तो यह चुन्नू के अलावा किसी अन्य व्यक्ति का था.

पीएमसीएच अधिकारियों ने तब कार्रवाई की. चुन्नू का इलाज पीएमसीएच में चल रहा था जिसकी पुष्टि उसके परिवार के सदस्यों और अस्पताल प्रशासन ने भी की है.

पीएमसीएच के अधीक्षक आई.एस. ठाकुर ने स्वास्थ्य प्रबंधक अंजलि कुमारी को जीवित कोविड रोगी के लिए मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने के लिए बर्खास्त कर दिया है और इसे ‘गंभीर गलती’ कहा है.

Corona Update: मुबंई के डॅाक्टर ने वैक्सीन दिलाने के लिए भगवान से लगाई गुहार, महाराष्ट्र में बेड की कमी के कारण कोरोना मरीजों का कुर्सी पर इलाज करने को मजबूर हुए डॅाक्टर

Corona Update: मुबंई के डॅाक्टर ने वैक्सीन दिलाने के लिए भगवान से लगाई गुहार, महाराष्ट्र में बेड की कमी के कारण कोरोना मरीजों का कुर्सी पर इलाज करने को मजबूर हुए डॅाक्टर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर