नई दिल्ली. वैज्ञानिक तीसरी लहर की आशंका पहले ही जाहिर कर चुके हैं। अब देश की कोविड आपातकालीन रणनीति तैयार करने वाले अधिकारियों की टीम ने केंद्र सरकार से कहा है कि तीसरी लहर के दौरान कोरोना के दैनिक मामलों की संख्या 50 हजार के पार नहीं जानी चाहिए। अधिकारियों ने कहा है कि कोविड-19 की तीसरी लहर के दौरान 4 से 5 लाख मामले प्रतिदिन सामने आ सकते हैं। ऐसे में कोविड-19 टीकाकरण अभियान में और तेजी लाने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि कोरोना केस को रोकने के लिए सभी कदम उठाए जाने चाहिए। कोविड-19 टीकाकरण अभियान में और तेजी लाने की जरूरत है. इसके अलावा, अस्पतालों में मेडिकल इक्विपमेंट्स बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अगले लहर के दौरान देश में कम-से-कम 2 लाख बेड्स की और जरूरत पड़ेगी. इसमें सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश (33 हजार) बेड्स की जरूरत पड़ेगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा है कि कोविड के नए पैकेज के अंतर्गत करीब 20 हजार नए आईसीयू बेड तैयार किए जाएंगे। इसमें से 20 फीसदी बेड पीडियाट्रिक बेड होंगे। हर जिले में एक पीडियाट्रिक यूनिट भी बनाई जाएगी। इस पैकेज के अंतर्गत 8800 से अधिक एंबुलेस की अलग से व्यवस्था की जाएगी।

Anurag Kashyap Daughter Troll : अनुराग कश्यप की बेटी आलिया ने अपने यूट्यूब चैनल पर सेक्स- ड्रग्स को लेकर की चर्चा, यूजर ने कहा- कुछ तो शर्म करो

Adarsh Gram Yojna: पीएम नरेंद्र मोदी ने वाराणसी के दो और गांव बरियारपुर और परामपुर को लिया गोद