नई दिल्ली/ देश में बेकाबू होते कोरोना की स्थिति को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिंता जाहिर की। पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना की जिस मौजूदा स्थिति का देश सामना कर रहा है वो पिछले साल के मुकाबले बहुत बड़ी है। पीएम ने किसी भी हालत में इस महामारी को गांवों तक पहुंचने से रोकने के हर संभव प्रयास को सुनिश्चित करने का आदेश दिया।

पंचायती राज दिवस के मौके पर डिजिटल माध्यम से आयोजित एक समारोह में प्रधानमंत्री ने स्वामित्व योजना की शुरुआत की। डिजिटल माध्यम के द्वारा चार लाख से अधिक लोगों के बीच उनकी सम्पत्ति के ई-प्रापर्टी कार्ड वितरित किए। साथ ही वर्ष 2021 के लिए राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार भी प्रदान किए। पीएम मोदी ने उन्हें विश्वास दिलाया कि जिस प्रकार पिछले साल कोरोना वायरस के संक्रमण को गांवों में फैलने से रोकने में सफलता मिली थी, उसी प्रकार इस बार भी इसमें सफलता मिलेगी।

पीएम ने पंचायतों से आग्रह किया कि कोरोना को गांव में पहुंचने से, रोकने में वे अपनी भूमिका निभाएं। पिछले साल भी आप सभी ने इस संक्रमण को गांवों में फैलने से रोका था। पंचायतों ने गांव में जागरूकता पहुंचाने में भी बहुत बड़ी भूमिका निभाई थी। इस वर्ष भी हमारे सामने चुनौती गांवों तक इस संक्रमण को पहुंचने से रोकने की है। मुझे भरोसा है कि देश और दुनिया को वह राह दिखाएंगे। उन्होंने कहा कि आज की तारीख में पंचायतों का मंत्र दवाई भी और कड़ाई भी का होना चाहिए।

डिजीटल माध्यम से केंद्रीय पंचायती राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, आठ राज्यों के मुख्यमंत्री और बड़ी संख्या में स्थानीय निकायों के प्रतिनिधि शामिल हुए। कोरोना के बढ़ते मामलों का उल्लेख करते हुए प्रधानमंत्री ने सभी से बचाव के उपायों का पालन करने का आग्रह किया और कहा, जो भी दिशा-निर्देश समय-समय पर जारी होते हैं, उनका पूरा पालन गांव में हो, हमें ये सुनिश्चित करना होगा। इस बार हमारे पास टीके का एक सुरक्षा कवच भी है। इसलिए हमें सारी सावधानियों का पालन भी करना है और ये भी सुनिश्चित करना है कि गांव के हर एक व्यक्ति को टीके की दोनों डोज लगे।

पीएम ने कहा कि यह बहुत मुश्किल समय चल रहा है। इस मुश्किल समय में कोई भी परिवार भूखा ना सोए, ये भी देश की और हमारी जिम्मेदारी है और इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मुफ्त राशन देने की योजना को दो महीने, मई और जून तक आगे बढ़ा दिया है। हमारे देश की प्रगति और संस्कृति का नेतृत्व हमेशा हमारे गांवों ने ही किया है। इसलिए आज देश अपनी हर नीति और हर प्रयास के केंद्र में गांवों को रखकर आगे बढ़ रहा है। हमारा प्रयास है कि आधुनिक भारत के गांव समर्थ हों, आत्मनिर्भर हों।

सवाल खत्म और व्यवस्था ध्वस्त!

Delhi Oxygen Crisis: दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी पर हाईकोर्ट ने कहा- ऑक्सीजन सप्लाई में अड़चन डालने वालों को फांसी पर लटका देंगे

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर