Congress Working Committee Meeting Highlights: गांधी ने सदस्यों से कहा कि उन्हें अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी से मुक्त कर दें और पार्टी को संकट से उबारने के लिए प्रयास करें. माना जा रहा है कि सोनिया गांधी पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने का मन बना चुकी हैं. वहीं दूसरी तरफ पार्टी मुख्यालय के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी शुरू कर दी है, उनकी मांग है कि गांधी परिवार से ही किसी को अध्यक्ष बनाया जाए.

कार्यसमिति की बैठक में पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पार्टी नेताओं द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी की टाइमिंग को गलता बताते हुए कहा कि जब वह अस्पताल में भर्ती थी, तब पत्र क्यों भेजा गया. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी कहा कि वो इस चिट्ठी से आहत हैं. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कार्यसमिति की बैठक में सोनिया गांधी को अध्यक्ष बने रहने के लिए आग्रह किया है. वहीं वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एके एंटनी ने कहा कि आलाकमान को कमजोर करना पार्टी को कमजोर करना है. कोई सहयोगी कैसे ऐसा पत्र लिख सकता है. इस वर्चुअल मीटिंग में मनमोहन सिंह, प्रियंका गांधी, कैप्टन अमरिंदर सिंह समेत कई नेता मौजूद हैं.

माना जा रहा है कि इसी बैठक के बाद तय हो जाएगा कि सोनिया गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बनी रहती हैं या नहीं. माना ये भी जा रहा है कि इस बात पर भी फैसला होगा कि पार्टी नेतृत्व कांग्रेस परिवार के पास ही रहेगा या नहीं. सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं को बता दिया है कि उन्होंने अंतरिम अध्यक्ष का एक साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है और अब पार्टी के अध्यक्ष पद को छोड़ना चाहती हैं. माना जा रहा है कि CWC की ये बैठक सोनिया गांधी को करीब 2 हफ्ते पहले लिखी गई एक चिट्ठी की प्रतिक्रिया के तौर पर बुलाई गई है.

Congress Working Committee Meeting Highlights:

Highlights

जल्द से जल्द ढूढ़ लें नया कांग्रेस अध्यक्ष- सोनिया गांधी

सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं से कहा है कि वो जल्द से जल्द नया कांग्रेस अध्यक्ष ढूढ़ लें क्योंकि वो ज्यादा दिन तक इस पद पर नहीं रह सकती हैं. राहुल गांधी ने नया अध्यक्ष मिलने तक नेताओं की एक छोटी सी कमेटी बनाने का प्रस्ताव दिया है जो पार्टी चलाने में सोनिया गांधी की सहायता करेगी

राहुल ने नहीं की बीजेपी से मिलीभगत की बात

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बीजेपी से जुड़े होने वाले विवाद पर अपने ट्वीट के जरिए सफाई दी है. आजाद ने कहा है कि राहुल गांधी ने यह कभी नहीं कहा, न ही सीडब्ल्यूसी में न ही बाहर, कि यह पत्र (पार्टी नेतृत्व के बारे में सोनिया गांधी को) बीजेपी के साथ मिलकर लिखा गया था.

राहुल से बात के बाद कपिल सिब्बल ने वापस लिया ट्वीट

सोनिया गांधी को लिखी गई चिट्ठी पर बवाल जारी है. राहुल गांधी के बाद प्रियंका गांधी वाड्रा ने नाराजगी जाहिर की है. प्रियंका ने गुलाम नबी आजाद और कपिल सिब्बल से नाराज हैं. इस बीच कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि राहुल ने बीजपी से मिलीभगत का कोई बयान नहीं दिया है. इसके थोड़ी देर बाद ही कपिल सिब्बल ने ट्वीट करके कहा कि राहुल गांधी से मेरी बात हुई और उन्होंने ऐसे किसी बयान से इनकार किया है, इसलिए मैं पुराना ट्वीट वापस लेता हूं.

कपिल सिब्बल बोले- 30 सालों में बीजेपी के पक्ष में नहीं दिया बयान

गुलाम नबी आजाद के बाद चिट्ठी लिखने वाले एक और नेता कपिल सिब्बल ने राहुल के आरोपों का जवाब ट्विटर पर दिया है. उन्होंने कहा कि पिछले 30 साल के दौरान मैंने किसी भी मुद्दे पर बीजेपी के पक्ष में बयानबाजी नहीं की, फिर मुझ पर मिलीभगत का आरोप लगाया जा रहा है.

बीजेपी से मिलीभगत के आरोप में बोले गुलाम नबी आजाद, आरोप साबित हुए तो इस्तीफा दे दूंगा

राहुल गांधी ने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर बीजेपी से मिलीभगत का आरोप लगाया. चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में से एक गुलाम नबी आजाद भी हैं जिन्होंने इस आरोप के जवाब में कहा कि अगर आरोप सच साबित होता है तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

चिट्ठी लिखने वालों पर बीजेपी से मिले होने का आरोप

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक के दौरान राहुल गांधी ने चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर बीजेपी से मिलीभगत का आरोप लगाया. चिट्ठी लिखने वाले नेताओं में से एक गुलाम नबी आजाद ने कहा कि अगर आरोप सच साबित होता है तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

ए के एंटनी बोले- दोबारा विचार करें राहुल गांधी

पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने राहुल गांधी से कहा कि वह अपने फैसले पर दोबारा विचार करें. राहुल गांधी से कांग्रेस अध्यक्ष ना बनने के फैसले पर दोबारा मंथन करने को कहा गया था. राहुल गांधी ने चिट्ठी लीक होने पर कड़ी प्रतिक्रिया दी और कहा कि मैं इससे काफी दुखी हूं.

राहुल गांधी ने चिट्ठी पर उठाए सवाल

कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने सोनिया गांधी की चिट्ठी पढ़ी, जिसमें सोनिया गांधी अंतरिम अध्यक्ष पद से हटने की मंशा जाहिर की है और कहा है कि नए अध्यक्ष की तलाश के प्रक्रिया शुरू की जाए. राहुल गांधी ने चिट्ठी को लेकर सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि आखिर यह टाइमिंग क्यों चुनी गई, जब राजस्थान और मध्य प्रदेश में हम लड़ रहे थे, जब सोनिया गांधी बीमार थीं, उस वक्त चिट्ठी क्यों लिखी गई

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App