नई दिल्लीः Rahul Gandhi at HAL: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल डील सौदे में अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस के हाथों डसॉल्ट के साथ ऑफसेट सौदे गंवा चुकी सरकारी कंपनी हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड यानी एचएएल के कर्मचारियों को बेंगलुरू में संबोधित कर रहे हैं. राफेल डील को लेकर मोदी सरकार और कांग्रेस पार्टी के बीच तनातनी जारी है. इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए राहुल गांधी शनिवार को बेंगलुरु में HAL के स्टाफ से बात कर रहे हैं. राहुल ने बातचीत में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का भी जिक्र किया. कर्मचारियों से संवाद में राहुल गांधी ने कहा कि वह यहां उनकी परेशानी सुनने आए हैं. राहुल से संवाद के दौरान एचएएल के वर्तमान और पूर्व कर्मचारियों ने राफेल डील को लेकर मोदी सरकार को जमकर कोसा.

इससे पहले वरिष्ठ नेता एस. जयपाल रेड्डी ने कहा था कि राहुल गांधी शनिवार को एचएएल कर्मचारियों से मुलाकात करेंगे. कांग्रेस अध्यक्ष के यहां आने की वजह ये है कि एचएएल कंपनी इस डील में सबसे बड़ी शिकार इसलिए बन गई है क्योंकि कंपनी के 10 हजार कर्मचारियों की नौकरी जाने वाली है. राफेल डील से 10 हजार नई नौकरियां पैदा होने वाली थीं लेकिन अब मौजूदा नौकरियां भी खत्म हो रही हैं. इसके लिए आखिर कौन जिम्मेदार है.’

रेड्डी ने आगे कहा, ‘हमारे समय (यूपीए सरकार) पर किया गया करार अगर आगे बढ़ाया जाता और उस समय तत्काल 18 विमान खरीदे जाते और बाकी भारत में ही एचएएल द्वारा बनाए जाते तो हमारी विनिर्माण क्षमता बढ़ती और देश का भविष्य भी समृद्ध होता. यही कारण है कि राहुल गांधी जी एचएएल आ रहे हैं.’ बताते चलें कि गुरुवार को राहुल गांधी ने राफेल मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पीएम नरेंद्र मोदी से इस्तीफे की मांग की. कांग्रेस का आरोप है कि यूपीए सरकार के दौरान हुई डील की तुलना में विमानों को लगभग तीन गुना अधिक कीमतों में खरीदा जा रहा है और इस डील के तहत मोदी सरकार ने दबाव डालकर यह सौदा अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस डिफेंस को दिलवाया. कांग्रेस इस कथित घोटाले की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित किए जाने की मांग कर रही है.

राहुल गांधी के HAL कर्मचारियों से मुलाकात पर बीजेपी की ओर से पहली प्रतिक्रिया केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने दी है. बाबुल सुप्रियो ने राहुल गांधी से पूछा, ‘तो #ClownPrince एचएएल पहुंचे लेकिन उनकी मम्मी ने शायद उन्हें ये बताने से मना किया कि एनडीए सरकार ने एचएएल को हर साल 22 हजार करोड़ रुपये के ऑर्डर दिए, वहीं 2004 से 2014 तक यूपीए सरकार के दौरान एचएएल को हर साल 10 हजार करोड़ रुपये के ऑर्डर दिए गए. है कोई जवाब. नामदार जी?’

Piyush Goyal on Rafale deal: राफेल पर कांग्रेस के आरोपों पर बीजेपी का पलटवार, एक झूठ सौ बार बोलने से सच नहीं हो जाएगा

Live Blog

राफेल पर केंद्र सरकार से लंबी लड़ाई लड़ने का इरादा रखते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने HAL कर्मचारियों से कहा-

HAL कर्मचारियों से राहुल गांधी ने कहा, 'सार्वजनिक क्षेत्र आधुनिक भारत के मंदिर हैं. हम उन्हें नष्ट करने की अनुमति नहीं दे सकते. अगर कोई सोचता है कि वो आपको दांव पर लगाकर अपने भविष्य को बना सकता है, तो इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है. हम आपके भविष्य के लिए लड़ने जा रहे हैं. रक्षा मंत्री कहती हैं कि एचएएल की क्षमता नहीं है. जिसको डील दी गई, उसकी क्या क्षमता है? मैं एचएएल की 70 साल से ज्यादा की प्रगति देख सकता हूं. मैं भारत सरकार की तरफ से एचएएल से माफी मांगता हूं क्योंकि मुझे पता है कि वे स्थिति सुधारने के लिए कुछ भी नहीं करेंगे. मैं आपको यह सुनिश्चित करना चाहता हूं कि सार्वजनिक क्षेत्र इस देश और सुरक्षा बलों के लिए रीढ़ की हड्डी है.'

एचएएल कर्मचारी शिवलिंगया और ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता उमेश ने राहुल गांधी से कहा-

एचएएल कर्मचारी शिवलिंगया ने राहुल गांधी से बातचीत में कहा, '2015 में एक कामोव 220 हेलिकॉप्टर विनिर्माण समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे, लेकिन परियोजना शुरू करने के लिए सरकार द्वारा कोई धनराशि आवंटित नहीं की गई.' ट्रेड यूनियन कार्यकर्ता उमेश ने कहा, 'एचएएल कर्नाटक का गौरव है. हमारी पहचान भारत सरकार द्वारा छीन ली गई है. हम इसकी अनुमति नहीं देंगे. आज राफेल का मुद्दा सिर्फ भ्रष्टाचार का मुद्दा नहीं है, बल्कि सार्वजनिक क्षेत्र का भी मुद्दा है, जो भारत की रीढ़ है.'

भारतीय वायुसेना के पूर्व इंजीनियर बाबू टी. राघव ने राहुल गांधी को एचएएल के बारे में बताते हुए कहा-

राहुल गांधी से संवाद में भारतीय वायुसेना के पूर्व इंजीनियर बाबू टी. राघव ने कहा, 'जब भी एचएएल प्रतिनिधियों ने हमारे स्क्वाड्रन का दौरा किया, हम जानते थे कि कई नई उम्मीदें और तकनीकें हैं. एचएएल और भारतीय वायुसेना एक यान के दो पंखों की तरह हैं. शीत युद्ध के दौरान एचएएल एकमात्र ऐसी कंपनी थी जिसके पास रूसी तकनीकों के साथ काम करने का अवसर था. यह एशिया में सबसे अच्छा संगठन है.'

एचएएल के सेवानिवृत्त कर्मचारी श्री महादेवन ने राहुल गांधी को एचएएल के बारे में बताते हुए कहा-

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से संवाद में हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के सेवानिवृत्त कर्मचारी श्री महादेवन ने कहा, 'बेंगलुरू भारत की सार्वजनिक क्षेत्र की राजधानी थी. हमारे रोजगार की रक्षा करना बहुत महत्वपूर्ण है. नए राफेल समझौते में प्रौद्योगिकी का कोई हस्तांतरण नहीं है. निजी क्षेत्र को रक्षा उत्पादन का कार्य नहीं दिया जा सकता है. यह एक रणनीतिक कारण है.'

एचएएल के सेवानिवृत्त कर्मचारी मि. सिराजुद्दीन ने राहुल गांधी के समक्ष अपनी बात रखी-

राहुल गांधी से संवाद में एचएएल के सेवानिवृत्त कर्मचारी मि. सिराजुद्दीन ने कहा, 'हमें अपमानित करके छोड़ दिया गया है. 70 साल के अनुभव वाली एचएएल को राफेल समझौते से बाहर फेंक दिया गया है. मुझे समझ नहीं आता कि एक बड़ी और अनुभवी कंपनी जिसे सुधारना चाहिए था, आप उसे मार रहे हो. हमारा एचएएल दक्षिण-पूर्वी एशिया में अग्रणी विमानन उद्योग है. क्या आप इस उद्योग को मारना चाहते हैं? यह एक अपमान और चोट है. हम इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे. मेरे जीवन में पहली बार मैंने सरकार को रोजगार की मांग करने के कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ एक निर्देश परिपत्र जारी करने को देखा है.'

बेंगलुरु पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एचएएल कर्मचारियों से कहा-

एचएएल कर्मचारियों से बातचीत करते हुए राहुल गांधी ने कहा, 'एचएएल मेरे लिए सिर्फ एक कंपनी नहीं है. जब हमें अपनी आजादी मिली, तो भारत ने एयरोस्पेस के क्षेत्र में प्रवेश करने के लिए रणनीतिक संपत्तियां बनाईं. आपने जो काम किया है, वह जबरदस्त है. जब श्री बराक ओबामा कहते हैं कि अमेरिका को चुनौती देने वाले दो देश हैं भारत और चीन, तो आप (एचएएल) इसका एक महत्वपूर्ण हिस्सा हो. मैं यहां आपसे यह सुनने के लिए आया हूं कि इस रणनीतिक संपत्ति को और अधिक प्रभावी कैसे बनाया जा सकता है और आप जिन कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं, उनका समाधान कैसे हो सकता है.'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एचएएल के कर्मचारियों के बीच पहुंचे, राफेल डील छिनने पर करेंगे बात

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बेंगलुरू में हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड यानी एचएएल के कर्मचारियों के बीच पहुंच चुके हैं. कुछ ही देर में राहुल गांधी फ्रांस की डसॉल्ट कंपनी से अनिल अंबानी की रिलायंस डिफेंस के साथ हुए ऑफसेट सौदे पर HAL के स्टाफ से बात करेंगे. कांग्रेस का आरोप है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कर्ज में डूबे अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए सरकारी कंपनी एचएएल से ऑफसेट सौदा छीनकर अनिल अंबानी की रिलायंस को दिया.

अब से कुछ ही देर में एचएएल कर्मचारियों से राहुल गांधी की मुलाकात

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के कर्मचारियों से मुलाकात कर सवाल उठाएंगे कि राफेल डील में रिलायंस एचएएल पर कैसे भारी पड़ी. रिलायंस को राफेल की ऑफसेट डील मिली है. फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद से राहुल गांधी ने हमला और तेज कर दिया है. वे विमान की कीमत बताने के लिए भी लगातार केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं.

राफेल डील से कैसे बाहर हुई HAL, एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के कर्मचारियों से बात करेंगे राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल डील से बाहर हुई हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के कर्मचारियों से मुलाकात कर उन्हें संबोधित करेंगे. राफेल मामले पर लंबे समय से मोदी सरकार पर हमलावर राहुल गांधी एचएएल के कर्मचारियों से राफेल डील पर चर्चा करेंगे. कांग्रेस ने तीन घंटे पहले एक ट्वीट कर इस कार्यक्रम की जानकारी दी है. कांग्रेस ने लोगों से राहुल गांधी का यहां का भाषण सुनने की अपील भी की है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App