July 15, 2024
  • होम
  • Congress: गुलाम नबी के इस्तीफे पर अशोक गहलोत बोले- 'बच्चों जैसी बातें कर रहे हैं आजाद'

Congress: गुलाम नबी के इस्तीफे पर अशोक गहलोत बोले- 'बच्चों जैसी बातें कर रहे हैं आजाद'

  • WRITTEN BY: Vaibhav Mishra
  • LAST UPDATED : August 26, 2022, 2:17 pm IST

Congress:

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के इस्तीफा देने पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि गुलाम नबी आजाद बच्चों जैसी बातें कर रहें है। उन्होंने कहा है कि आजाद को पार्टी ने पिछले 42 सालों में सबकुछ दिया है।

42 साल में पार्टी ने सब कुछ दिया

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर में मीडिया से बात करेत हए कहा कि आजाद के द्वारा जो भी टिप्पणियां की गई हैं वो उचित नहीं है। मैं खुद सदमे में हूं कि एक व्यक्ति जिसे 42 साल पार्टी ने सब कुछ दिया है। आज वो ऐसे संदेश दे रहा है। जो मेरे समझ के परे हैं।

कांग्रेस नेताओं ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस

गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे पर कांग्रेस पार्टी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की। जिसमें कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा कि हमने (गुलाम नबी) आजाद साहब का (इस्तीफे का) पत्र देखा। दुख की बात है कि उन्होंने ऐसे समय में कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया जब कांग्रेस देश भर में बढ़ती महंगाई, बेरोज़गारी, ध्रुवीकरण की लड़ाई लड़ने जा रही है।दुख की बात है कि वे इस लड़ाई में हिस्सा नहीं बन रहे हैं।

फारूक अब्दुल्ला ने कही ये बात

आज़ाद के इस्तीफे पर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि इंदिरा गांधी जी के वक्त से ये (गुलाम नबी आज़ाद) इनर कैबिनेट के मेम्बर थे। आज भी सोनिया गांधी के बहुत करीब थे। बड़ा अफसोस है मुझे कि ऐसा क्या हो गया कि उन्हें इतना बड़ा फैसला लेना पड़ा है।

हिमंत ने राहुल पर साधा निशाना

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे पर मीडिया से बात करते हुए कहा कि उनके और मेरे लिखे गए (इस्तीफे) पत्र में काफी समानता हैं। सबको पता है कि राहुल गांधी अपरिपक्व और अप्रत्याशित नेता है। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने अब तक बस अपने बेटे को ही आगे बढ़ाने का काम किया है जो अब तक विफल रहा है।

राहुल गांधी भाजपा के लिए वरदान

हिमंता ने आगे कहा कि जो नेता पार्टी के लिए वफ़ादार थे वह पार्टी छोड़कर जा रहे हैं। मैंने 2015 में ही कहा था कि कांग्रेस में सिर्फ गांधी रह जाएंगे। राहुल गांधी भाजपा के लिए वरदान हैं। जब लोग राहुल गांधी से हमारे नेताओं की तुलना करते हैं तो वैसे ही हम आगे हो जाते हैं।

बिहार में अपना CM चाहती है भाजपा, नीतीश कैसे करेंगे सियासी भूचाल का सामना

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन