नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी सरकार केनागरिकता संशोधन कानून के समर्थन और विरोध के दौरान हुई दिल्ली हिंसा 40 से ज्यादा लोगों की जान ले गई. दंगा शांत हुआ तो अब मुद्दे पर सियासत कुंडली मारकर बैठ गई. देश की दो नेशनल पार्टी बीजेपी और कांग्रेस एक दूसरे को राजधर्म की सीख दे रहे हैं.

दरअसल पहले कांग्रेस ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से राजधर्म का पालन करने की अपील की जिसपर भारतीय जनता पार्टी की ओर से केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को जवाबी कार्रवाई के लिए उतारा गया. रविशंकर प्रसाद बोले तो उन्हें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने घेर लिया और कहा कि आपने तो पूर्व पीएम अटल विहारी वाजपेयी की नसीहत नहीं सुनी हमारी क्या सुनेंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की दिल्ली हिंसा को लेकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात के बाद कांग्रेस की ओर से राजधर्म पालन करने की अपील की गई. इसके जवाब में शुक्रवार को कानून मंत्री रविशंकर कहा था कि कांग्रेस पार्टी राजधर्म के नाम पर लोगों को भड़काने का काम न करे. अब रविशंकर प्रसाद के इस बयान का कपिल सिब्बल ने जवाब दिया.

मनमोहन सिंह सरकार में पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे कपिल सिब्बल ने ट्वीट करते हुए रविशंकर प्रसाद से कहा ‘कानून मंत्री कांग्रेस से कह रहे हैं कि प्लीज हमें राजधर्म न सिखाएं. हम आपको कैसे राजधर्म की सीख दे सकते हैं आदरणीय मंत्री जी. आपने जब गुजरात में पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की नसीहत नहीं सुनी तो आप हमें क्यों सुनेंगे. सुनना सीखना और राजधर्म का पालन करना भारतीय जनता पार्टी के मजबूत बिंदुओं में से एक नहीं है.’

BJP on DP Head constable Ratan Lal: दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल को शहीद का दर्जा, 1 करोड़ रुपए की परिवार को मदद, एक सदस्य को नौकरी

Congress Demands Amit Shah Resign: दिल्ली हिंसा पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की मांग- इस्तीफा दें गृहमंत्री अमित शाह

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App