नई दिल्ली: देश के चर्चित वरिष्ठ पत्रकार और मीडिया उद्यमी अनुरंजन झा देश के लिए एक शानदार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और वेब स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म ‘Lauk (लउक)’ लेकर आए हैं। यह “भारत का, भारत द्वारा और भारत के लिए” है। कई अलग अलग फीचर्स के साथ ये वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म आज से लोगों के लिए उपलब्ध है। ’Lauk (लउक)’प्लेटफॉर्म सामान्य वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सुविधाओँ के साथ-साथ शिक्षकों, विद्यालयों, छात्रों और शिक्षण कार्य से संबंधित लोगों के लिए ‘ लउक क्लासरूम’ और लाइव स्ट्रीमिंग, वेबिनार और अन्य सेवाओं के लिए ‘लउक स्टूडियो’ के साथ उपलब्ध होगा।

Lauk (लउक) केसंस्थापक और प्रमोटर श्री अनुरंजन झा ने कहा कि ये वीडियो कांफ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म“आत्मनिर्भर भारत” की दिशा में एक कदम है जो हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आह्वान है। झा ने कहा कि अब समय आ गया है जब देश को संपूर्ण आत्मनिर्भर बनाने के लिए इस दिशा में प्रयास किए जाने चाहिए। ’Lauk (लउक)’ वीडियो कांफ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म पर अलग अलग फीचर्स के साथ 3 स्वरूप मौजूद हैँ।

इस प्रोजेक्ट को अनुरंजन झा की कंपनी, पार्क मीडिया प्राइवेट लिमिटेड लेकर आई है। Lauk सामान्य वीडियो कांफ्रेंसिंग प्लेटफार्म है, जहां आप मीटिंग्स, सेमिनार, वेबिनार और चर्चा कर सकते हैं वहीं ‘लउक क्लासरुम’ खास तौर पर शिक्षकों, विद्यालयों और छात्रों के लिए डिजाइऩ किया गया । मौजूदा दौर में जहां ऑनलाइन शिक्षा का महत्व सबसे ज्यादा है वहां ‘Lauk Classroom’ इस क्षेत्र के लिए वरदान साबित हो सकता है। जहां शिक्षण संस्थान आसानी से छात्रों को ऑनलाइन शिक्षा दे सकते हैं औऱ छात्र पढ़ाई के साथ साथ अपने नोट्स भी बना सकते हैं। “लउक स्टूडियो” में आप लाइव स्ट्रीमिंग, वेबिनार और दूसरेअन्य फीचर्स पा सकते हैँ।

गोपनीयता की चिंताओं के संबंध में झा ने दावा किया कि ’Lauk (लउक)’सुरक्षित है और इसमें’एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन’ की आवश्यक सुविधाएं मौजूद हैं। ग्राउंड वीडियो स्ट्रीमिंग तकनीक के एक्सपर्ट माने जाने वाले और ’Lauk (लउक)’ के सह-संस्थापक वरुण गुप्ता ने कहा कि यहां हर एक कॉल पूरी तरह सुरक्षित है।लॉगिन के समय मल्टी-डिवाइस और अतिरिक्त वैकल्पिक पासवर्ड सुरक्षा भी प्रदान करता है। सहकर्मियों के साथ सहयोग के लिए यूजर्स, विशेष रूप से ‘वर्क फ्रॉम होम’करने वाले, स्क्रीन को दूसरे पक्ष के साथ साझा कर सकते हैं।

“Lauk’ को चरणों में लॉन्च किया जा रहा है, और ये देश का पहला प्लेटफार्म है जो अन्य भारतीय डेवलपर्स के लिए भी एपीआई प्रदान करेगा ताकि वे अपने स्वयं के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग अनुप्रयोगों का विकास कर सकें”। अनुरंजन झा ने कहा कि सब्सक्रिप्शन के मामले में हमने बाजार का पूरा ध्यान रखा है और बाजार में मौजूद सभी दूसरे प्लेटफॉर्म से ज्यादा फीचर्स के साथ ’Lauk (लउक)’ को बाजार में उतारा है और सभी दूसरे प्लेटफॉर्म से सस्ता भी है । इस प्लेटफार्म पर कई सारे फीचर्स के लिए यूजर्स को पैसे नहीं खर्च करने पड़ेंगे और कई अलग अलग फीचर्स के साथ ये महज 250 रुपए से लेकर 1500 रुपए मासिक के बीच मौजूद है।

स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों के लिए विशेष रियायती पैकेज दिए जाएंगे। कोरोनावायरस के कारण लगाए गए यात्रा प्रतिबंध और फिजिकल डिस्टेंसिंग ने वेब अनुप्रयोगों को काफी लोकप्रिय बना दिया है और अब इसे न्यू नॉर्मल कहा जाने लगा है। स्कूलों-कॉलेजों और अन्य शिक्षण संस्थाओं के बंद होने सेवीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म का भविष्य उज्ज्वल दिखता है। साथ ही वर्तमान मेंआवश्यक और गैर आवश्यक सेवा क्षेत्र की अधिकांश जनशक्ति घर से काम कर रही है। कई व्यावसायिक प्रतिष्ठान अपने कार्यबल को समन्वित करने और बैठकों का संचालन करने के लिए इन अनुप्रयोगों पर बहुत अधिक निर्भर हैं। ऐसे में ये ’Lauk (लउक)’ एक बेहतर माध्यम है।

Facebook Messanger New Feature: फेसबुक मैसेंजर में जुड़ा नया फीचर, ग्रुप वीडियो कॉलिंग को कर सकेंगे लाइव

Google Invest in India: अगले 5 सालों में भारत में 75000 करोड़ का निवेश करेगा गूगल, इन पर होगा फोकस