नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में भी कर्नाटक की कुमारस्वामी सरकार का मामला पिछले कुछ दिनों से छाया हुआ है. आज कर्नाटक के दो बागी विधायकों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी कि आज कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट से पहले उनकी याचिका पर सुनवाई हो. मुकुल रोहतगी ने कर्नाटक के इन दोनों विधायकों की तरफ से याचिका दायर की. दोनों विधायकों ने याचिका पर त्वरित सुनवाई की मांग की थी. चीफ जस्टिस ने त्वरित सुनवाई की मांग ठुकराते हुए कहा कि इस याचिका पर आज सुनवाई असंभव है. सीजेआई ने यह भी कहा कि कल सुनवाई होगी या नहीं ये देखेंगे.इसके बाद वकील लिली थॉमस ने सीजीआई के सामने एक न्यूजपेपर की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि कर्नाटक में हॉर्स ट्रेडिंग और दलबदल कानून का साफ उल्लंघन किया जा रहा है. इसके जवाब में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा, ” मैडम कृपया न्यूजपेपर न पढ़ें न ही टीवी देखें, आप खुश रहेंगी. इसके अलावा आप कुछ कहना चाहती हैं तो आवेदन फाइल करें. 

बता दें कि आज कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है ऐसे में अगर बागी विधायक सरकार के पक्ष में वोट नहीं करते हैं तो एचडी कुमारस्वामी की सरकार का ये आखिरी दिन होगा. यही कारण है कि कांग्रेस और जेडीएस की तरफ से सरकार बचाने को लेकर कोशिशें हो रही हैं. ऐसे में कुमारस्वामी के लिए मुख्यमंत्री पद त्याग कर सरकार बचाना आखिरी रास्ता हो सकता है. अगर नंबर गेम की बात करें तो बीजेपी अपने पास बहुमत होने का दावा कर रही है. बीजेपी के पास 105 विधायक अपने और दो निर्दलीयों का समर्थन होने का दावा है. तो वहीं अगर बात कांग्रेस-जेडीएस की करें तो उनके पास 100 वोट अपने और एक बसपा विधायक का वोट है. अभी ताजा आंकड़ा देखें तो अब JDS 34, Cong 65, BSP 1, BJP 105, IND 2

कर्नाटक के सियासी नाटक में उलझे, सुप्रीम कोर्ट, राज्यपाल और स्पीकर
कर्नाटक मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. बागी विधायकों और स्पीकर का पक्ष शीर्ष अदालत ने सुना और दोनों ही पक्षों को अपने फैसले में कुछ न कुछ दिया. बागी विधायकों को वोट न देने की आजादी मिल गई वहीं स्पीकर को अपने फैसले पर जमे रहने का अधिकार. इस बीच राज्य के राज्यपाल ने दो बार मुख्यमंत्री को फ्लोर टेस्ट की डेडलाइन दी जिसका पालन नहीं हुआ. इस लिहाज से कर्नाटक का मामला संवैधानिक ढांचे में संतुलन कैसे स्थापित हो इस प्रश्न पर भी सोचने को मजबूर करता है. भारतीय जनता पार्टी लगातार सरकार से मतदान करने की अपील करती रही, लेकिन कांग्रेस-जेडीएस ने राज्यपाल का आदेश होने के बावजूद बहस पूरी होने तक मतदान को टाल दिया. एचडी कुमारस्वामी को राज्यपाल ने दो बार चिट्ठी लिखी, बार-बार डेडलाइन दी लेकिन मतदान नहीं हुआ.

Karnataka HD Kumaraswamy Gov Floor Test Live: कर्नाटक विधानसभा में थोड़ी देर में फ्लोर टेस्ट, कुमारस्वामी का मुख्यमंत्री बने रहना मुश्किल, कांग्रेस ने कहा त्याग करे जेडीएस

TMC CPM Congress MLAs to Join BJP in West Bengal: कर्नाटक के बाद अब पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर संकट, मुकुल रॉय का दावा- टीएमसी, कांग्रेस, सीपीएम के 107 विधायक बीजेपी में हो सकते हैं शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App