नई दिल्ली: चीन ना सिर्फ बॉर्डर पर बदमाशी कर रहा है बल्कि अंदर ही अंदर देश के शीर्ष पदों पर बैठे लोगों की भी जासूसी कर रहा है. अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक चीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा विपक्ष के बड़े नेताओं, सांसदों, खिलाड़ियों, विधायकों और कई संगठनों की जासूसी कर रहा है. रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी कम्यूनिस्ट पार्टी से जुड़ी कंपनियों की टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर भारत में करीब दस हजार लोगों की जासूसी कर रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक चीन जिन लोगों की जासूसी कर रहा है उनमें राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके परिवार के सदस्य, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत, पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह, महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे, ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक, एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, रेलमंत्री पीयूष गोयल, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के अलावा सेना के कम से कम 15 पूर्व प्रमुख, चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एसए बोबडे, सीएजी जीसी मूर्मू, स्टार्टअप टेक उद्यमी जैसे भारत पे के संस्थापक निपुण मेहरा, ऑथब्रिज के अजय तेहरान, देश के बड़े उद्यमी रतन टाटा और गौतम अडाणी जैसे लोगों शामिल हैं.

रिपोर्ट में ये भी दावा किया गया है कि चीन इन लोगों के अलावा बाकी क्षेत्रों से जुड़े लोगों पर भी नजर रखे हुए है जिनमें अहम पदों पर बैठे नौकरशाह, जज, वैज्ञानिक, विद्वान, पत्रकार, अभिनेता, खिलाड़ी, धार्मिक हस्ती और कार्यकर्ता शामिल हैं. इतना ही नहीं आर्थिक अपराध, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, ड्रग्स तस्करी, सोना, हथियार या वन्यजीव तस्करी के सैकड़ों आरोपियों का भी पूरा डेटाबेस चीन ने जुटाया है. अखबार ने दावा किया है कि इसने बिग डेटा टूल्स के जरिए दो महीने से अधिक समय तक जेनहुआ ऑपरेशंस के मेटा डेटा की जांच की और विशाल लॉग फाइल्स से जासूसी की जद में आए भारतीयों के नाम हासिल किए.

India China Face Off: भारत और चीन के बीच तनाव अपने चरम पर, LAC पर टैंक्स और आधुनिक हथियार तैनात

Major Organisational Reshuffling In Congress: कांग्रेस संगठन में बड़ा फेरबदल, गुलाम नबी आजाद से महासचिव का पद छिना, सुरजेवाला का पार्टी में कद बढ़ा