श्रीहरिकोटा. भारत की आन बान और शान का प्रतीक चंद्रयान 2 की श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से दोपहर 2 बजकर 43 मिनट पर सफल लॉन्चिंग हुई. भारतीय अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने शनिवार को ही चंद्रयान 2 की लॉन्चिंग की रिहर्सल पूरी कर ली थी. चंद्रयान 2 को भारत के सबसे ताकतवर जीएमएलवी मार्क- रॉकेट से लॉन्च किया गया. इस रॉकेट में तीन मॉड्यूल ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) हैं. बता दें कि चंद्रयान आज से 48वें दिन चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचेगा. इस बार चंद्रयान 2 का वजन 3,877 किलो है. यह चंद्रयान-1 मिशन (1380) से लगभग तीन गुना ज्यादा है. लैंडर के अंदर मौजूद रोवर की रफ्तार 1 सेमी प्रति सेकेंड है. बता दें कि पहले चंद्रयान 2 पिछले हफ्ते 15 जुलाई को रात में लॉन्च होने वाला था लेकिन कुछ तकनीकी खराबी आने की वजह से इसका लॉन्च टाल दिया गया था.

बता दें कि इसरो चंद्रयान-2 को पहले अक्टूबर 2018 में लॉन्च करने वाला था. बाद में इसकी तारीख बढ़ाकर 3 जनवरी और फिर 31 जनवरी कर दी गई. बाद में अन्य कारणों से इसे 15 जुलाई तक टाल दिया गया. इस दौरान बदलावों की वजह से चंद्रयान-2 का भार भी पहले से बढ़ गया. ऐसे में जीएसएलवी मार्क-3 में भी कुछ बदलाव किए गए थे. चंद्रयान-2 वास्तव में चंद्रयान-1 मिशन का ही नया संस्करण है. इसमें ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं. चंद्रयान-1 में सिर्फ ऑर्बिटर था, जो चंद्रमा की कक्षा में घूमता था. चंद्रयान-2 के जरिए भारत पहली बार चांद की सतह पर लैंडर उतारेगा. यह लैंडिंग चांद के दक्षिणी ध्रुव पर होगी. इसके साथ ही भारत चांद के दक्षिणी ध्रुव पर यान उतारने वाला पहला देश बन जाएगा.

जब चंद्रयान 2 के ‘बाहुबली’ ने भरी कामयाबी की ऊंची उड़ान, देखें वीडियो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दी बाधाई

चांद पर कैसे काम करेगा चंद्रयान 2
चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद ऑर्बिटर एक साल तक काम करेगा. इसका मुख्य उद्देश्य पृथ्वी और लैंडर के बीच कम्युनिकेशन करना है. ऑर्बिटर चांद की सतह का नक्शा तैयार करेगा, ताकि चांद के अस्तित्व और विकास का पता लगाया जा सके. वहीं, लैंडर और रोवर चांद पर एक दिन (पृथ्वी के 14 दिन के बराबर) काम करेंगे. लैंडर यह जांचेगा कि चांद पर भूकंप आते हैं या नहीं. जबकि, रोवर चांद की सतह पर खनिज तत्वों की मौजूदगी का पता लगाएगा. चंद्रयान 2 की खोज अंतरिक्ष जगत में बड़ी क्रांति साबित हो सकती है.

Chandrayaan 2 Live Online Streaming: चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण आज, इसरो के इन ऑफिशियल चैनल पर देख सकेंगे लाइव ऑनलाइन स्ट्रीमिंग

Chandrayaan-2 Mission Live Updates Sriharikota GSLV-III: भारत के दूसरे मून मिशन के लिए इसरो श्रीहरिकोटा से चंद्रयान 2 लॉन्च में 10 मिनट बाकी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App