नई दिल्ली: भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट ने बड़ी राहत देते हुए उनकी सशर्त जमानत में बदलाव किया है जिसके मुताबिक चंद्रशेखर आजाद ना सिर्फ दिल्ली आ सकते हैं बल्कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में हिस्सा भी ले सकते हैं. अतिरिक्त सत्र न्यायधीश कामिनी लॉ की अदालत में हुई सुनवाई के दौरान कोर्ट ने पाया कि अभियोजनकर्ता की ये दलील बेबुनियाद है की चंद्रशेखर आजाद के दिल्ली में रहने से राजधानी में लॉ एंड आर्डर और राष्ट्रीय सुरक्षा की समस्या खतरे में पड़ सकती है.

गौरतलब है कि 20 दिसंबर को सीएए के विरोध में चंद्रशेखर आजाद ने जामा मस्जिद पर बिना पुलिस की इजाजत के बिना प्रदर्शन किया था. उनपर लोगों को हिंसा के लिए भड़काने का आरोप लगा था. हालांकि कोर्ट ने चंद्रशेखर आजाद को सशर्त जमानत पर 15 जनवरी को रिहा कर दिया था जिसमें कहा गया था कि वो शाहजहांपुर वापस लौट जाएंगे और अगले एक महीने तक किसी भी प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लेंगे. कोर्ट ने ये भी टिप्पणी की थी कि वो दिल्ली चुनाव में किसी तरह की परेशानी नहीं आने देना चाहती हैं.

कोर्ट ने आजाद की जमानत याचिका पर थोड़ी और ढील देते हुए कहा कि आजाद दिल्ली आ सकते हैं लेकिन उन्हें दिल्ली आने से पहले डीसीपी (क्राइम) को सूचित करना होगा. इसके अलावा उन्हें अपनी पूरी दिनचर्या भी डीसीपी के साथ साझा करनी होगी. इसके अलावा कोर्ट ने आजाद को ये भी आदेश दिया है कि वो दिल्ली में रहते हुए उसी जगह पर रहेंगे जहां उन्हें कोर्ट ने रहने के लिए कहा है. इससे पहले आजाद ने कोर्ट में कहा था कि उन्हें चार हफ्ते तक दिल्ली ना आने देने का फैसला उनके मूलभूत अधिकारों का हनन है.

What Is NPR: सीएए और एनआरसी विरोध के बीच नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर की तैयारी में जुटी नरेंद्र मोदी सरकार, जानें क्या है NPR और कैसे होगी नागरिकों की गिनती

Bharat Bandh: कर्मचारी संगठनों ने बुधवार 8 जनवरी को किया भारत बंद का आह्वान, देशभर के 25 करोड़ कर्माचारी और मजदूर लेंगे हिस्सा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App