चंडीगढ़. बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बीजेपी और केंद्रस सरकार पर जमकर निशाना साधा. मायावती ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी गरीब व दलित विरोधी है. मायावती ने कहा कि केंद्र में बीजेपी की सत्ता के दौरान गरीबों और दलितों पर अत्याचार बढ़ा है. मायावती ने कहा कि इसलिए अब जरूरी है कि भाजपा को सत्ता में आने से रोका जाए और सभी वर्ग एकजुट हो जाएं.

मायावती ने चंडीगढ़ रैली में आरोप लगाया कि राज्यसभा में बात रखने की कोशिश की तो मेरी बात को नहीं रखने दिया गया था. इसी कारण मैंने राज्यसभा से ही इस्तीफा दे दिया था. मायावती ने कहा कि अगर मैं देश की संसद में ही दलितों की बात नहीं रख सकती हूं तो यहां रहने का क्या फायदा, इसलिए राज्यसभा से इस्तीफा दिया था.

मायावती की इस रैली को 2019 के लोकसभा चुनावों से जोड़कर देखा जा रहा है. बसपा का वोटबैंक दलित और पिछड़ों को माना जाता है. लेकिन पिछले कुछ चुनावों में बसपा के इस वोटबैंक में सेंध लगी है. माना जा रहा है कि इस सेंध को रोकने के लिए मायावती ने 2019 के लोकसभा चुनावों की तैयारी शुरु कर दी है. बता दें कि पंजाब में 31 फीसदी और हरियाणा में 21 फीसदी से ज्यादा दलित रहते हैं. बसपा पिछले लोकसभा और विधान सभा चुनावों के दौरान अपना वोट बैंक संभालने में नाकाम रही थी लेकिन मायावती फिर से दलित वोट बैंक हासिल करने की कोशिश में है.

BSP के संस्थापक कांशीराम की 84वीं जयंती आज, मान्यवर ने ठुकरा दी थी अटल बिहारी बाजपेयी की राष्ट्रपति बनाने की पेशकश

यूपी उपचुनाव: SP-BSP की हुई जीत तो अखिलेश से मुलाकात के लिए मायावती ने भिजवाई ब्लैक मर्सिडीज

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App