नई दिल्ली. नया मोटर व्हीकल एक्ट लागू होने के बाद राजधानी दिल्ली में कैब ड्राइवर्स अपने साथ कंडोम लेकर गाड़ी चला रहे हैं. उनका कहना है कि गाड़ी के फर्स्ट एड किट में कंडोम न होने पर उनका चालान काटा जा रहा है. इस मुद्दे पर सोशल मीडिया पर भी बहस छिड़ गई है. हालांकि इस बारे में मोटर व्हीकल एक्ट में कहीं जिक्र नहीं है कि कंडोम न होने पर आपका चालान काटा जाएगा. फिर भी कंडोम को साथ रखने के कई फायदे हैं. कंडोम का उपयोग सेक्स ही नहीं बल्कि दूसरे अन्य कामों में भी उपयोग हो सकता है. सड़क दुर्घटना के दौरान अस्पताल पहुंचने से पहले कंडोम का उपयोग कर घायल व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है.

रमेश राजेश और सचिन नाम के कैब ड्राइवर्स ने एएनआई से बातचीत के दौरान कंडोम के कई फायदे भी बताए हैं. उनका कहना है कि कंडोम का सुरक्षित संभोग के लिए उपयोग किया जाता है. यदि कार का प्रेशर पाइप फट जाए तो कंडोम के जरिए लीकेज को रोका जा सकता है. बारिश के दौरान कंडोम लगाकर जूतों को गीले होने से बचाया जा सकता है. साथ ही चोट लगने पर खून को रोकने के लिए भी कंडोम का इस्तेमाल कर सकते हैं. इन कैब ड्राइवर्स का कहना है कि ट्रैफिक पुलिस को भी कंडोम के इन उपयोगों के बारे में पता नहीं है. जब उन्हें बताया गया तो वे हंस रहे थे.

एक्स्पर्ट्स का मानना है कि कंडोम को प्राथमिक उपचार के रूप में उपयोग किया जा सकता है. जब दुर्घटना होती है तो घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुंचाने में समय लगता है. कभी-कभी तो एंबुलेंस आने में भी बहुत देर हो जाती है. यदि दुर्घटना में घायल व्यक्ति को गहरी चोट लगी है और तेजी से खून बह रहा है तो जख्म वाली जगह पर कंडोम बांध कर खून का बहाव रोका जा सकता है. इससे घायल व्यक्ति की जान भी बच सकती है.

इसी तरह यदि दुर्घटना में यदि किसी को अंदरूनी चोट लगी है या फिर उसका हाथ या पैर फ्रैक्चर भी हुआ है तो कंडोम से उसे बांध सकते हैं. नजदीकी अस्पताल में इलाज के दौरान ले जाने से पहले फ्रैक्चर हुए अंग को सपोर्ट दिया जा सकता है.

 फर्स्ट एड किट में कंडोम नहीं रखने पर कैब ड्राइवर्स का कट रहा चालान, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस कमिश्नर बोले- नए मोटर व्हीकल एक्ट में ऐसा कोई नियम नहीं

How to Use DigiLocker: भारी ट्रैफिक चालान से बचने के लिए ड्राइविंग लाइसेंस और गाड़ी के डॉक्यूमेंट्स डिजी लॉकर में ऐसे करें अपलोड

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर